I.A.S. कैसे बनें

0
22
- Advertisement - Disney + Hotstar  [CPS] IN

मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है । हर व्यक्ति का अपना अलग-अलग सपना होता है । कोई डॉक्टर, कोई
इंजीनियर, कोई आई0एफ0 एस0, कोई आई0पी0एस0 तो कोई आई0ए0एस0 आफीसर बन कर देश
सेवा करना चाहता है परन्तु आई0ए0एस0 आफीसर बनना इतना सहज नहीं है । आई0ए0एस0
ऑफिसर बनने के लिए अत्यन्त कठिन परिश्रम के साथ साथ स्मार्ट स्टडी भी बेहद आवश्यक है ।
आई0ए0एस0 ऑफिसर बनने के लिए इण्टरमीडिएट उत्तीर्ण होने के बाद आपकी जिस विषय मेंसर्वाधिक रूचि है उसी विषय से स्नातक करना चाहिए ताकि उस विषय में गहन जानकारी हो सके ।

I.A.S. का फुल फार्म Indian Administrative Service है जिसे हिन्दी में भारतीय प्रशासनिक
सेवा कहते हैं ।

आई0ए0एस0 ऑफिसर की परीक्षा किस के द्वारा कराई जाती है ?

आई0 ए0 एस0 अधिकारी की परीक्षा UPSC द्वारा कराई जाती है जिसका फुल फॉर्म “Union Public
Service Comission” है जिसे हिन्दी नाम “संघ लोक सेवा आयोग” है ।

आई0ए0एस0 ऑफिसर बनने के लिए न्यूनतम शैक्षिक योग्यता क्या है ?

आईएएस ऑफिसर बनने के लिए न्यूनतम शैक्षिक योग्यता किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से
स्नातक डिग्री होना आवश्यक है । यदि आप स्नातक की अन्तिम वर्ष में है अथवा अन्तिम वर्ष की
परीक्षा दे चुके हैं और परिणाम का इन्तजार कर रहे हैं तो भी आप इस परीक्षा में भाग ले सकते हैं
परन्तु मुख्य परीक्षा में भाग लेने से पहले स्नातक की डिग्री देना आवश्यक है ।

- Advertisement - Disney + Hotstar  [CPS] IN

आईएएस ऑफिसर बनने के लिए न्यूनतम आयु सीमा क्या है ?

आईएएस ऑफिसर बनने के लिए न्यूनतम आयु सीमा 21 वर्ष है अधिकतम आयु सीमा प्रत्येक वर्ग के
लिए अलग-अलग निर्धारित है जो निम्नवत है-

  • सामान्य वर्ग- 32 वर्ष ।
  • अन्य पिछड़ा वर्ग- 35 वर्ष (3 वर्ष की छूट) ।
  • एस0सी0/ एस0टी0- 37 वर्ष (5 वर्ष की छूट) ।
  • EWS- 32 वर्ष (कोई छूट नहीं) ।
  • डिसएबल सर्विसमैन तथा डिसएबल फ्रॉम ड्यूटी सामान्य वर्ग के अभ्यर्थी के लिए अधिकतम आयु सीमा
    37 वर्ष, अन्य पिछड़ा वर्ग के अभ्यर्थी के लिए अधिकतम आयु सीमा 38 वर्ष तथा sc-st वर्ग के
    अभ्यर्थी के लिए अधिकतम आयु सीमा 40 वर्ष रखी गई है ।
  • जन्म से शारीरिक रूप से विकलांग अभ्यर्थी के लिए – 42 वर्ष (10 वर्ष की छूट) ।

आप आई0ए0एस0 ऑफिसर बनने के लिए कितनी बार परीक्षा दे सकते हैं ?

आई0ए0एस0 ऑफिसर बनने के लिए प्रत्येक वर्ग की अलग-अलग एग्जाम अटेम्प्ट लिमिट निर्धारित
की गई है जो निम्नवत है-

1- सामान्य वर्ग के अभ्यर्थी अधिकतम 6 बार एग्जाम दे सकते हैं ।
2- अन्य पिछड़ा वर्ग के अभ्यर्थी अधिकतम 9 बार एग्जाम दे सकते हैं ।
3- एस0सी0/ एस0टी0 वर्ग के अभ्यर्थी के लिए एग्जाम अटेम्प्ट की कोई सीमा निर्धारित नहीं है
अर्थात ओवर एज होने के पूर्व वे जितनी बार चाहें उतनी बार एग्जाम दे सकते हैं ।
4- सामान्य तथा अन्य पिछड़ा वर्ग के शारीरिक रूप से विकलांग अभ्यर्थी कुल 9 बार परीक्षा दे सकते
हैं तथा एस0सी0/ एस0टी0 वर्ग के विकलांग अभ्यर्थी ओवर एज होने तक जितनी बार चाहें उतनी
बार परीक्षा दे सकते हैं ।

आई0ए0एस0 ऑफिसर बनने के लिए आवेदन कब करना चाहिए ?

यदि आप उपरोक्त शैक्षिक योग्यता तथा आयु सीमा रखते हैं तो आपको यू0पी0एस0सी0 परीक्षा
उत्तीर्ण करने के लिए आवेदन करना चाहिए ।

आई0ए0एस0 ऑफिसर बनने के लिए परीक्षा कितने चरणों में सम्पन्न होती है ?

आई0ए0एस0ऑफिसर बनने के लिए परीक्षा निम्नांकित तीन चरणों में सम्पन्न होती है-
1- प्रारम्भिक लिखित परीक्षा ।
2- मुख्य लिखित परीक्षा ।
3- साक्षात्कार ।

प्रारम्भिक लिखित परीक्षा – इस परीक्षा में दो प्रश्न पत्र होते हैं । एक प्रश्न पत्र जनरल एबिलिटी
टेस्ट तथा दूसरा प्रश्नपत्र सिविल सर्विस एप्टीट्यूट टेस्ट होता है । दोनों प्रश्नपत्र मैं ऑब्जेक्टिव प्रश्न पूछे
जाते हैं । दोनों ही प्रश्नपत्र 200- 200 अंकों के होते हैं । प्रारम्भिक परीक्षा मात्र क्वालीफाइंग होती है ।

पेपर प्रथम (सामान्य एबिलिटी टेस्ट) का पाठ्यक्रम –

राष्ट्रीय तथा अन्तर्राष्ट्रीय महत्व की वर्तमान घटनाएं ।
भारत का प्राचीन, मध्यकालीन तथा आधुनिक इतिहास ।
भारतीय राजनीति, शासन, राजनीतिक प्रणाली, संविधान तथा पंचायती राज व्यवस्था ।
सामान्य विज्ञान ।
सामाजिक विकास तथा आर्थिक, सामाजिक क्षेत्र की पहल, सतत विकास, समावेश, गरीबी तथा
जनसांख्यिकी आदि ।
भारत एवं विश्व का आर्थिक तथा भौतिक भूगोल ।

पेपर द्वितीय सिविल सर्विस एप्टिट्यूड टेस्ट का पाठ्यक्रम क्या है ?

डाटा व्याख्या ।
समस्या हल करना तथा निर्णय लेना
सामान्य मानसिक योग्यता ।
तार्किक तर्क तथा विश्लेषणात्मक क्षमता ।
संचार कौशल तथा पारस्परिक कौशल ।
मुख्य लिखित परीक्षा- सिविल सेवा परीक्षा का दूसरा चरण है जिसमें प्रारम्भिक लिखित परीक्षा
में उत्तीर्ण होने वाले अभ्यर्थी भाग लेते हैं । इस परीक्षा में कुल 7 प्रश्न पत्र होते हैं जिनमें वर्णनात्मक
प्रश्न पूछे जाते हैं ।
प्रथम प्रश्न पत्र निबन्ध का होता है ।
दूसरा प्रश्न पत्र सामान्य अध्ययन का होता है जिसमें भारतीय संस्कृत, विरासत, अर्थव्यवस्था एवं
भारतीय इतिहास व भूगोल से प्रश्न पूछे जाते हैं ।
तीसरा प्रश्न पत्र भी सामान्य अध्ययन का होता है जिसमें भारतीय राजनीति, सामाजिक न्याय,
भारतीय संविधान, भारतीय प्रशासन आदि से प्रश्न पूछे जाते हैं ।
चौथा प्रश्न पत्र भी सामान्य अध्ययन का होता है जिसमें आर्थिक विकास, जैव विविधता, प्रौद्योगिकी,
आपदा प्रबन्धन तथा पर्यावरण आदि से प्रश्न पूछे जाते हैं ।
पांचवा प्रश्न पत्र भी सामान्य अध्ययन का होता है जिसमें सत्यनिष्ठा तथा अभिवृत्ति आदि से प्रश्न पूछे
जाते हैं ।

छठवां प्रश्न पत्र वैकल्पिक विषय पेपर प्रथम का होता है ।
सातवां तथा अन्तिम प्रश्न पत्र वैकल्पिक विषय पेपर द्वितीय का होता है ।

साक्षात्कार –

सिविल सेवा परीक्षा का तीसरा तथा अन्तिम चरण है । मुख्य लिखित परीक्षा में उत्तीर्ण होने के बाद
अभ्यर्थी का साक्षात्कार लिया जाता है जिसमें सफल होने पर मुख्य परीक्षा तथा साक्षात्कार में प्राप्त
अंकों के आधार पर अन्तिम मेरिट सूची तैयार की जाती है जिसमें सफल अभ्यर्थियों को आई0ए0एस0
अधिकारी चुना जाता है

- Advertisement - Disney + Hotstar  [CPS] IN