Friday, September 18, 2020
Home Blog चीन के मुकाबले भारत की स्थिति (INDIA V/S CHINA)

चीन के मुकाबले भारत की स्थिति (INDIA V/S CHINA)

- Advertisement -

[lwptoc]

भारत तथा चीन एशिया महाद्वीप के दो बडे तथा शक्तिशाली देश हैं जिनके तुलनात्मक सम्बन्धों के
बारे में अन्तर्राष्ट्रीय परिदृश्य में प्राय चर्चा होती रहती है । हालांकि चीन हमेशा भारत पर भारी पडता
रहा है परन्तु पहले की तुलना में आजकल भारत भी काफी सशक्त हो चुका है । भारत को प्राय: चीन से
आर्थिक तथा सामरिक चुनौती मिलती रहती है परन्तु आज कल भारत की अर्थव्यवस्था काफी मजबूत
हुई है जिसकी चीन चिन्तित है ।

- Advertisement -

भारत की प्रति व्यक्ति आय चीन की तुलना में काफी कम है । जहां चीन की प्रति व्यक्ति आय 8,806
हजार डालर है वहीं पर भारत की प्रति व्यक्ति आय 1,743 डालर है ।

भारत की जी0 डी 0पी0 में हालांकि पहले की अपेक्षा काफी सुधार हुआ है परन्तु फिर भी भारत की
प्रति व्यक्ति जी0 डी0 पी0 चीन की तुलना में काफी कम है । जहां पर चीन की प्रति व्यक्ति जी0 डी0
पी0 15 ,399 डालर है वहीं पर भारत की जी0 डी0 पी0 प्रति व्यक्ति 6,616 डालर है ।

- Advertisement -

भारत की जी0 डी0 पी0 चीन की तुलना में बहुत कम है । जहां चीन की जी0 डी0 पी0 11.2 ट्रिलियन
डालर है वहीं पर भारत की जी0 डी0 पी0 9.489 ट्रिलियन डालर है ।

भारत की अर्थव्यवस्था में आजादी के बाद अब तक काफी सुधार हुआ है परन्तु फिर भी वर्तमान में चीन
की तुलना में भारत का निर्यात् बहुत कम है । चीन का प्रतिवर्ष निर्यात् 2,560 अरब डालर है परन्तु
भारत का प्रतिवर्ष निर्यात् 423 अरब डालर है ।

भारत की अर्थव्यवस्था मिश्रित है जबकि चीन की अर्थव्यवस्था सरकार के नियन्त्रण वाली मिश्रित
अर्थव्यवस्था है ।

भारत की अपेक्षा चीन प्रतिवर्ष आयात में काफी आगे है । चीन प्रतिवर्ष लगभग 2,148 अरब डालर का
आयात करता है जब कि भारत प्रतिवर्ष लगभग 516 अरब डालर का ही आयात करता है ।

भारत का कुल रेल नेटवर्क मात्र 1,19,630 किलोमीटर है तथा भारत में अभी हाई स्पीड तथा बुलट
ट्रेन के लिए रेल नेटवर्क तैयार किया जा रहा जबकि चीन में कुल रेल नेटवर्क 01 लाख 21 हजार
किमी0 है तथा चीन में विश्व का सबसे बडा बुलट ट्रेन का नेटवर्क है । इस प्रकार रेल नेटवर्क के मामले
में भी भारत चीन से पीछे है ।

भारत में वर्तमान में मात्र 126 सिविल एविएशन एयरपोर्ट हैं जब कि चीन में कुल 220 सिविल
एविएशन एयरपोर्ट हैं । इस प्रकार एविएशन के मामले में भी भारत चीन से काफी पीछे है ।
भारत की कुल तटीय सीमा 7,518 किलोमीटर है जहां पर 12 बडे पोर्ट तथा 200 मध्यम आकार के
पोर्ट हैं जबकि चीन की कुल तटीय सीमा 14,500 किलोमीटर है जहां पर 130 बडे पोर्ट तथा 2000
मध्यम आकार के पोर्ट हैं । इस प्रकार भारत पोर्ट के मामले में भी चीन से बहुत पिछडा हुआ है ।

अफ्रीकी देशों में भारत का निवेश 17 अरब डालर है जबकि चीन ने अफ्रीकी देशों में लगभग 35 अरब
डालर का निवेश किया है इस प्रकार भारत का दक्षिण अफ्रीकी देशों में निवेश चीन की अपेक्षा बहुत
कम है ।
भारत पर सरकारी कर्ज लगभग 70% है जब कि चीन पर मात्र 46% सरकारी कर्ज है । इस प्रकार
भारत पर सरकारी कर्ज चीन की अपेक्षा काफी अधिक है ।

जनसंख्या के मामले में चीन का विश्व में प्रथम स्थान है जब कि जनसंख्या के मामले में भारत विश्व का
दूसरा सबसे बडा देश है ।

- Advertisement -

चीन विश्व का ऐसा देश है जो अमेरिका के बाद रक्षा बजट पर सबसे अधिक निवेश करता है जिसका
रक्षा बजट 126 विलियन डालर वार्षिक है जबकि भारत का रक्षा बजट 55.9 विलियन डालर वार्षिक
है । इस प्रकार भारत का रक्षा बजट चीन के मुकाबले काफी कम है ।

भारत के पास मिलिट्री में 5,978 टैंक, 6,704 AFV, 290 SPG, 7,414 TOWED ARTILERY,
292 MLR हैं जबकि चीन की मिलिट्री में 9,150 टैंक, 4,788 AFV, 1,710 SPG, 6,246
TOWED ARTILERY, 1,770 MLR हैं । इस प्रकार भारत की मिलिट्री पावर चीन से कम है ।

भारत में कुल 2,104 एयरक्राफ्ट हैं जिसमें 900 फाइटर एयरक्राफ्ट हैं, 666 हेलीकाप्टर जिसमें 16
युद्धक हेलीकाप्टर हैं जबकि चीनी एयरफोर्स में कुल 2,955 एयरक्राफ्ट जिसमें से 13,00 फाइटर
एयरक्राफ्ट हैं, 912 हेलीकाप्टर जिसमें 206 युद्धक हेलीकाप्टर हैं ।

भारत के पास 01 एयरक्राफ्ट कैरियर,15 सबमरीन, 14 FRIATES, 24 CARVETTES, 140
PETROL CRAFT, 06 MINE WARFARE CRAFT, 07 MAJOR PORT हैं जबकि चीनी
नेवी में 01 एयरक्राफ्ट कैरियर,68 सवमरीन, 51FRIATES, 35 CARVETTES, 220
PETROL CRAFT, 31 MINE WARFARE CRAFT, 15 MAJOR PORT हैं ।
भारत के पास 120 NUCLEAR WARHEADS हैं जबकि चीन के पास 270 NUCLEAR
WARHEADS हैं । इस प्रकार चीन भारत से NUCLEAR POWER में आगे है ।

इस प्रकार भारत वर्तमान समय में जनसंख्या, सैन्य, रेलवे, न्युक्लियर पावर आदि मामलों में चीन से
पीछे है परन्तु आने वाले निकट भविष्य में भारत आर्थिक एवं सामरिक महाशक्ति बनने की ओर अग्रसर
है । भारत अर्थव्यवस्था में जर्मनी तथा ब्रिटेन आदि देशों से आगे बढ चुका है ।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

What is Solution In Science ?

विलयन क्या है ? यह दो या दो से अधिक पदार्थों का समांग मिश्रण है जो स्थायी एवं पारदर्शक होता है । विलेय कणों का...

अर्थशास्त्र (ECONOMICS)

अर्थशास्त्र क्या है ? सामाजिक विज्ञान की वह शाखा जिसके अंतर्गत वस्तुओं तथा सेवाओं के उत्पादन, वितरण, विनिमय एवं उपभोग का अध्ययन किया जाता है...

विशेषज्ञों की राय के मूल्यांकन के सम्बन्ध में माननीय न्यायालयों के विभिन्न निर्णय (Various Judgements of Hon,ble Courts in related valuation of Expert...

रुकमानन्द अजीत सारिया बनाम उषा सेल्स प्राइवेट लिमिटेड ए0 आई0 आर0 1991 एन0 ओ0 सी0 108 गुवाहाटी में माननीय उच्च न्यायालय द्वारा पारित निर्णय...

शिक्षाशास्त्र (PEDAGOGY)

शिक्षाशास्त्र (Pedagogy) क्या है ? शिक्षण कार्य की प्रक्रिया के भलीभांति अध्ययन को शिक्षाशास्त्र (Pedagogy) या शिक्षण शास्त्र कहते हैं । इसके अन्तर्गत अध्यापन की...
Would you like to receive notifications on latest updates? No Yes