Saturday, September 19, 2020
Home Blog उत्तर प्रदेश में लाक डाउन

उत्तर प्रदेश में लाक डाउन

- Advertisement -

[lwptoc]

उत्तर प्रदेश में लाक डाउन

कोरोना वाइरस (कोविड-19) की चुनौतियों से निपटने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने प्रथम चरण में उत्तर प्रदेश राज्य के 15 जिलों को 23 मार्च 2020 से 25 मार्च 2020 तक के लिए लाक डाउन कर दिया है ।

उत्तर प्रदेश के लाक डाउन किये गए जनपद –

- Advertisement -

लखनऊ, कानपुर, गोरखपुर, गाजियाबाद, नोएडा, वाराणसी, आगरा, मुरादाबाद, प्रयागराज, अलीगढ,  बरेली, सहारनपुर, मेरठ, आजमगढ तथा लखीमपुर खीरी ।

बढायी जा सकती है लाक डाउन  की अवधि –

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा लाक डाउन किए गए जनपदों लखनऊ, कानपुर, गोरखपुर, गाजियाबाद, नोएडा, वाराणसी, आगरा, मुरादाबाद, प्रयागराज, अलीगढ,  बरेली, सहारनपुर, मेरठ, आजमगढ तथा लखीमपुर खीरी की समाक्षा की जायेगी तथा आवश्यकता पडने पर इन जनपदों का लाक डाउन और आगे बढाया जा सकता है । दूसरे चरण में कुछ और जिलों को भी लाक डाउन किया जा सकता है ।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमन्त्री द्वारा उच्चाधिकारियों को दिये गये निर्देश –

- Advertisement -

उत्तर प्रदेश के मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा है कि जिलाधिकारी, पुलिस आयुक्त, नगर आयुक्त, पुलिस अधीक्षक, अपर जिलाधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी, मुख्य चिकित्साधिकारी, खण्ड विकास अधिकारी तथा कार्यकारी मजिस्ट्रेट दिये गये निर्देशों का अपने-अपने क्षेत्र में कडाई से अनुपालन कराना सुनिश्चित करेंगे । इस सम्बन्ध में पूर्व से जारी आदेश प्रभावी होंगे । किसी भ्रम की स्थिति उत्पन्न होने पर राज्य सरकार द्वारा आवश्यक दिशा निर्देश जारी किये जायेंगे । राज्य सरकार द्वारा जारी किये गये आदेशों का उल्लंघन करने वालों के विरुध्द तत्काल भारतीय दण्ड संहिता की धारा- 188 के अन्तर्गत दण्डात्मक कार्यवाही की जायेगी ।

लाक डाउन अवधि में कौन-कौन सी सेवाएं पूर्णतया बन्द रहेंगी –

  • आवश्यक सेवाओं को छोडकर समस्त सरकारी कार्यालय, शैक्षणिक संस्थान, अर्ध्दसरकारी उपक्रम, राजकीय निगम व मण्डल, स्वायत्तशासी संस्थाएं, समस्त व्यापारिक प्रतिष्ठान, निजी कार्यालय, माल्स, दुकानें, वर्कशाप, फैक्ट्रियां, गोदाम तथा सार्वजनिक परिवहन ( रोडवेज, सिटी परिवहन, टैक्सी, प्राइवेट बसें, आटो रिक्शा आदि) पूरी तरह बन्द रहेंगे ।
  • सरकारी कार्यालयों में आम जनमानस के प्रवेश पर पूर्णतया प्रतिबन्ध रहेगा ।
  • आवश्यक सेवाओं वाले विभागों के अधिकारी व कर्मचारियों के छोडकर अन्य सरकारी अधिकारी व कर्मचारी की स्थिति “वर्क फ्राम होम” रहेगी, आफिस समय के दौरान घर से बाहर निकलने की अनुमति नही होगी, अपरिहार्य स्थिति के अतिरिक्त कोई अवकाश या मुख्यालय छोडने की अनुमति नही होगी । विभाग के अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव, सचिव, जिलाधिकारी या जिला स्तरीय अधिकारी उक्त अधिकारियों व कर्मचारियों को फील्ड ड्यूटी के लिए निर्देशित करने को स्वतन्त्र होंगे ।
  • पांच या पांच से अधिक व्यक्तियों को एक साथ किसी सार्वजनिक स्थल पर इकट्ठा होने प्रतिबन्धित रहेगा ।
  • किसी राजनैतिक, सामाजिक, सांस्कृतिक, शैक्षणिक, धार्मिक, खेल, संगोष्ठी, धरना, सम्मेलन इत्यदि का आयोजन, साप्ताहिक बाजारों का आयोजन, प्रदर्शनियां आदि निषिध्द रहेंगी । किसी भ्रम की स्थिति उत्पन्न होने पर राज्य सरकार द्वारा आवश्यक दिशा निर्देश जारी किये जायेंगे । आदेशों का उल्लंघन करने वाले के विरूध्द कठोर दण्डात्मक कार्यवाही की जायेगी ।

लाक डाउन अवधि में किन-किन सेवाओं पर प्रतिबन्ध नही रहेगा –

स्वास्थ्य सेवाएं, चिकित्सकीय उपकरण, दवा का दूकान, सामग्री तथा दवाओं का निर्माण इकाइयां, फल, सब्जी, डेरी, दूध, किराना स्टोर, पेयजल, खाद्य सामग्री, कृषि उत्पादन तथा उससे समबन्धित निर्माण इकाइयां तथा उनके थोक व फुटकर विक्रेता,  डाक सेवाएं, ए0टी0एम0, ई- कामर्स (खाद्य वस्तु, होम डिलिबरी, ग्रासरी), बीमा कम्पनियां, पुलिस, सशस्त्र बल, अर्ध्दसैनिक बल, जिला प्रशासन, बिजली दफ्तर व विलिंग सेंटर, प्रिन्ट, इलेक्ट्रानिक मीडिया व सोशल मीडिया, पेट्रोल पम्प, एल0पी0जी0 गैस, आयल एजेन्सी तथा आयल एजेन्सी से सम्बन्धित गोदाम एवं परिवहन के साधन, पशु चिकित्सा तथा पशु आहार से सम्बन्धित इकाइयां एवं विक्रेता, राज्य सम्पत्ति विभाग, सूचना जन सम्पर्कतथा सूचना प्रोद्योगिकी, अग्निशमन व सिविल डिफेन्स, आपातकालीन सेवाएं, टेलीफोन, इन्टरनेट, डाटा सेन्टर, नेट सर्विसेज तथा आईटी से जुडी और सम्बन्धित सेवाएं प्रतिबन्धित नही की गयी हैं । ये सभी सेवाएं खुली रहेंगी ।

आपात स्थिति में परिवहन के लिए परमिट जारी होगा –

लाक डाउन के अन्तर्गत बन्द के दौरान आपात स्थिति में आवश्यकतानुसार परिवहन साधनों को परमिट जारी करने के लिए मुख्य सचिव, अपर मुख्य सचिव, गृह, प्रमुख सचिव, चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, जिलाधिकारी, पुलिस आयुक्त या उनके द्वारा नामित किये गये अधिकारी प्राधिकृत होंगे ।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

What is Solution In Science ?

विलयन क्या है ? यह दो या दो से अधिक पदार्थों का समांग मिश्रण है जो स्थायी एवं पारदर्शक होता है । विलेय कणों का...

अर्थशास्त्र (ECONOMICS)

अर्थशास्त्र क्या है ? सामाजिक विज्ञान की वह शाखा जिसके अंतर्गत वस्तुओं तथा सेवाओं के उत्पादन, वितरण, विनिमय एवं उपभोग का अध्ययन किया जाता है...

विशेषज्ञों की राय के मूल्यांकन के सम्बन्ध में माननीय न्यायालयों के विभिन्न निर्णय (Various Judgements of Hon,ble Courts in related valuation of Expert...

रुकमानन्द अजीत सारिया बनाम उषा सेल्स प्राइवेट लिमिटेड ए0 आई0 आर0 1991 एन0 ओ0 सी0 108 गुवाहाटी में माननीय उच्च न्यायालय द्वारा पारित निर्णय...

शिक्षाशास्त्र (PEDAGOGY)

शिक्षाशास्त्र (Pedagogy) क्या है ? शिक्षण कार्य की प्रक्रिया के भलीभांति अध्ययन को शिक्षाशास्त्र (Pedagogy) या शिक्षण शास्त्र कहते हैं । इसके अन्तर्गत अध्यापन की...
Would you like to receive notifications on latest updates? No Yes