बर्ड फ्लू (Bird flu)

0
14
Bird_Flu

बर्ड फ्लू (Bird flu)

बर्ड फ्लू तेजी से फैलने वाली श्वास संक्रामक बीमारी है जो H 5 N 1 नामक अत्यन्त खतरनाक एवियन एनफ्लुएंजा विषाणु (वाइरस) के संक्रमण के कारण होती है। बर्ड फ्लू का संक्रमण बत्तख, मुर्गा, मुर्गी, मोर, कौए आदि पक्षियों में काफी तेजी से फैलता है तथा संक्रमित होने के बाद मृत्यु हो जाती है। बर्ड फ्लू का वाइरस संक्रमित पक्षी के लार व मल में 10 दिनों तक जीवित रहता है। बर्ड फ्लू सर्वप्रथम 1997 ई0 में हांगकांग में एक मनुष्य में पाया गया था।

बर्ड फ्लू के लक्षणः

बुखार होना, हमेशा उल्टी होनो का एहसास होना, थकान, आंखों में कंजक्टिवाइटिस, डायरिया, बेचैनी, सांस लेने में तकलीफ होना, नाक बहना, सिर में व पेट के निचले भाग में दर्द, गले तथा मांसपेशियों में दर्द होना तथा खांसी आदि बर्ड फ्लू के मुख्य लक्षण हैं।

पक्षियों में बर्ड फ्लू संक्रमण के लक्षणः

बर्ड फ्लू से संक्रमित होने पर पक्षियों के मुख, नाक, आंख तथा मल द्वार से लार टपकने लगती है, पक्षी सुस्त पड़ जाता है तथा चारा चुगना बन्द कर देता हैं। संक्रमण के बाद पक्षी की मौत हो जाती है। ऐसे मृत पक्षियों को या तो जला देना चाहिए या फिर जमीन में दफन कर देना चाहिए। खुले स्थान पर कदापि नही रहने देना चाहिए अन्यथा संक्रमण फैलने का जोखिम बढ़ जाता है।

इंसान में बर्ड फ्लू का संक्रमणः

बर्ड फ्लू का संक्रमण उन व्यक्तियों में फैलता है जो बर्ड फ्लू से संक्रमित पक्षियों के सम्पर्क में रहते हैं। इस बीमारी का संक्रमण इंसान में मुख, नाक तथा आंख के माध्यम से होता है। इस बीमारी की अभी तक कोई वैक्सीन नही बन पायी है, एण्टीफंगल दवाओं से उपचार किया जाता है।

बर्ड फ्लू के संक्रमण से बचने के उपायः

  1. संक्रमित क्षेत्र में न जाने से बचें।
  2. यदि संक्रमित क्षेत्र में जाना ही पड़ जाए तो मास्क अवश्य पहनें।
  3. संक्रमित तथा मरे हुए पक्षियों से दूर रहें।
  4. बर्ड फ्लू को संक्रमण फैलने पर नानवेज (अण्डा व मांस) का सेवन न किया जाय।
  5. भीड़ में न जाएं।
  6. यदि भीड़ वाले स्थान पर जाना ही पड़े तो मास्क पहन कर ही जायें।
  7. छींकते या खांसते समय मुख पर स्वच्छ तौलिया, रूमाल या हाथ अवश्य रखें।
  8. घर से बाहर जब भी निकलें मास्क अवश्य पहनें।
  9. बार-बार साबुन से हाथ धोयें।
  10. किसी वस्तु को छूने पर तत्काल हैण्ड सेनिडाइजर का प्रयोग करें।
  11. नाक, मुख तथा आंख को हाथ से न छुएं और यदि छूते हैं तो हैण्ड सेनिडाइजर से हाथ को सेनिटाइज करने के बाद ही छुएं।
  12. बर्ड फ्लू के लक्षण दिखने पर स्वयं को तत्काल क्वारंटाइन कर लें तथा अपनें नजदीकी रजिस्टर्ड चिकित्सक से तुरन्त परामर्श लें।

भारत में माह दिसम्बर 2020 के अन्त में बर्ड फ्लू की एन्ट्री हो चुकी है। अब तक भारत के नौ राज्यों (राजस्थान, मध्य प्रदेश, दिल्ली, केरल, हिमांचल प्रदेश, हरियाणा, गुजरात, महाराष्ट्र तथा उत्तर प्रदेश) में बर्ड फ्लू फैल चुका है। केन्द्र व सम्बन्धित राज्य सरकारें इसके संक्रमण को नियन्त्रित करने के हर सम्भव उपाय कर रही है।

राजस्थान में बर्ड फ्लू का संक्रमणः

भारत में बर्ड फ्लू की पहली दस्तक 25 दिसम्बर 2020 को राजस्थान राज्य के झालावाड़ जिले में हुई जहां पर कुछ पक्षियों का मृत्यु हुई। वर्तमान समय में झालावाड़, पाली, जैसलमेर, सवाई माधोपुर, दौसा, सिरोही आदि 11 जिलों में बर्ड फ्लू का संक्रमण फैल चुका है जहां पर हुई पक्षियों की मोत के सेम्पल जांच रिपोर्ट में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। राजस्थान सरकार द्वारा बर्ड फ्लू के प्रसार को रोंकने के लिए प्रयास किये जा रहें हैं।

दिल्ली में बर्ड फ्लू का संक्रमणः

दिल्ली में 10 जनवरी 2021 को कुछ बत्तखों तथा कौओं की सेम्पल जांच रिपोर्ट में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। दिल्ली सरकार द्वारा इमरजोंसी हेल्पलाइन नम्बर 23890318 जारी करते हुए पक्षियों के आयात पर रोंक लगा दी गयी है, संक्रमण के प्रसार को रोंकने के प्रयास किये जा रहें हैं, संक्रमित क्षेत्र को सैनिटाइज किया गया है, संक्रमित क्षेत्र संजय झील में पक्षियों को खत्म करने का अभियान चला दिया गया है।  

महाराष्ट्र में बर्ड फ्लू का संक्रमणः

महाराष्ट्र के परभनी जिले में स्थित पोल्ट्री फार्म में लगभग 800 मुर्गियों की मृत्यु हो चुकी है, लातूर में भी काफी संख्या में पक्षी मृत पाये गये हैं। जांच सेम्पल में बर्ड फ्लू की पुष्टि होने पर महाराष्ट्र  सरकार इस बीमारी के संक्रमण के प्रसार को रोंकने के प्रयास किये जा रहे हैं, संक्रमित क्षेत्रों को एलर्ट जान घोषित कर दिया गया है, 10 किमी0 के दायरे में पक्षियों की खरीद तथा बिक्री पर प्रतिबन्ध लगा दिया गया है।

उत्तर प्रदेश में बर्ड फ्लू का संक्रमणः

उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले के चिड़ियाघर में काफी संख्या में कौओं व मुर्गियों की मौत हुई है जिसके सेम्पल जांच रिपोर्ट में बर्ड फ्लू की पुष्टि होने पर कानपुर के चिड़ियाघर को सील कर दिया गय़ा है, रेड जोन घोषित कर दिया गया है तथा पक्षियों को मारने के आदेश दिये गये हैं। सोनभद्र व बस्ती जिले में भी काफी संख्या में कौओं तथा मुर्गियों की मृत्यु हुई है जिसके सेम्पल जांच के लिए भेजें गएं हैं। उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा बर्ड फ्लू के प्रसार को रोंकने के लिए हर सम्भव प्रयास किये जा रहे हैं।

जनपद कानपुर के सीमावर्ती जनपद लखनऊ के वाजिद अली शाह चिडियाघर में सतर्कता बरती जा रही है, पधियो के बाड़े को सैनिटाइज किया जा रहा है तथा पक्षियों के खान-पान में सावधानी बरती जा रही है।

मध्य प्रदेश में बर्ड फ्लू का संक्रमणः

मध्य प्रदेश को 9 जिलों (इन्दौर, मन्दसौर, नीमच, उज्जैन, देवास, आगर-मालवा, गुना, खरगौन तथा खांडवा) में बर्ड फ्लू का संक्रमण फैल चुका है। मध्य प्रदेश सरकार द्वारा बर्ड फ्लू के प्रसार को रोंकने के लिए हर सम्भव प्रयास किये चा रहे हैं, इन्दौर पोल्ट्री फार्म के साढ़े चार सौ मुर्गियों को मार दिया गया है। संक्रमित क्षेत्रों को सैनिटाइज कर दिया गया है तथा रेड जोन घोषित कर दिया गया है।

गुजरात में बर्ड फ्लू का संक्रमणः

गुजरात के सूरत जिले में बर्ड फ्लू का संक्रमण पाया गया है। जूनागढ़, डांग, कच्छ, बड़ोदरा तथा राजकोट में कबूतर, कौए तथा टिटिहरी का मृत्यु हुई है जिनके सेम्पल जांच के लिए भेजे गये हैं। गुजरात सरकार द्वारा बर्ड फ्लू के संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए हर सम्भव प्रयास किये जा रहे हैं।

हिमांचल प्रदेश में बर्ड फ्लू का संक्रमणः

हिमांचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में बर्ड फ्लू का संक्रमण पाया गया है। हिमांचल प्रदेश सरकार द्वारा बर्ड फ्लू के संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए हर सम्भव प्रयास किये जा रहे हैं।

हरियाणा में बर्ड फ्लू का संक्रमणः

हरियांणा के पंचकूला तथा कागंड़ा जिले में बर्ड फ्लू का संक्रमण पाया गया है। हरियाणा सरकार द्वारा बर्ड फ्लू के संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए हर सम्भव प्रयास किये जा रहे हैं।

केरल में बर्ड फ्लू का संक्रमणः

केरल के कोट्टायम तथा अलप्पुझा जिलों में बर्ड फ्लू का संक्रमण पाया गया है। केरल सरकार द्वारा बर्ड फ्लू के संक्रमण के प्रसार को रोंकने के लिए हर संभाव प्रयास किये जा रहो हैं, 69000 से अधिक मुर्गे, मुर्गियों तथा बत्तखों को मार दिया गया है, संक्रमित क्षेत्रों को सैनिटाइज किया जा रहा है तथा रेड जोन घोषित किया गया है जिसमें पक्षियों के खरीद व बिक्री पर प्रतिबन्ध लगा दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.