Miscellaneous

बोर्ड परीक्षा की तैयारी के टिप्स (Board Examination Preparation Tips)

Table Of Contents Hide
1 बोर्ड परीक्षा की तैयारी के टिप्स (Board Examination Preparation Tips)

बोर्ड परीक्षा की तैयारी के टिप्स (Board Examination Preparation Tips)

उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा, उत्तराखण्ड, झारखण्ड आदि राज्यों की सरकारें अपने-अपने राज्यों में केन्द्रीय बोर्ड (सी0 बी0 एस0 ई0, आई0 सी0 एस0 ई0) तथा राज्य बोर्ड की कक्षा 10 एवं 12 की बोर्ड परीक्षा 2021 को माह मार्च तथा अप्रैल में आयोजित कराएंगी। वर्ष 2020 में कोरोना नामक घातक वैश्विक महामारी के कारण विद्यालय लम्बी अवधि तक बन्द रहे जिसके कारण बोर्ड एजेंसियों द्वारा पाठ्यक्रम कम कर दिया गया। उक्त घातक वैश्विक महामारी के काऱण विद्यालय लम्बी अवधि तक बन्द रहने की वजह से छात्रों को विद्यालय जाकर क्लास अटेण्ड कर के पढाई करने का सुअवसर नहीं मिल सका। छात्रों द्वारा अपने-अपने घर पर रहकर मात्र आनलाइन ही पढ़ाई की गई। भारत के देहात क्षेत्र के अब भी कुछ ऐसे क्षेत्र हैं जहां पर इण्डरनेट की पहुंच नहीं है। गरीबी के कारण कुछ ऐसे भी छात्र हैं जिनके पास एण्ड्रायड मोबाइल फोन नही है। उक्त कारणों से छात्र समुचित पढ़ाई नही कर पाये जिसके कारण बोर्ड परीक्षा देने को लेकर छात्र काफी तनाव में हैं कि बोर्ड परीक्षा में क्या होगा? वे पास होंगे या फेल होंगे?

कक्षा 10 व 12 वीं की बोर्ड परीक्षा प्रत्येक छात्र की “भविष्य की नींव” तथा “सफलता की प्रथम सींढ़ी” होती है। हर छात्र का सपना होता है कि वह परीक्षा में अधिक से अधिक मार्क्स लाकर अपना, अपने परिवार, खान-दान, विद्यालय, जिला, राज्य व देश का नाम रोशन करे परन्तु समुचित पढ़ाई न कर पाने के कारण छात्र अपने उक्त सपनों को साकार करने को लेकर बेहद तनाव में हैं। यहां पर हम कुछ ऐसे अति महत्वपूर्ण टिप्स बता रहे हैं जिनको अमल में लाकर छात्र 10 वीं तथा 12 वीं की बोर्ड परीक्षा में 95 प्रतिशत से अधिक अंक लाकर टाप कर सकते हैं तथा अपने उक्त सपनों को साकार कर सकते हैं। ये अति महत्वपूर्ण टिप्स निम्नवत् हैः-

पाठ्क्रम को अच्छी तरह समझे (Understand the syllabus)

सर्वप्रथम सम्बन्धित बोर्ड की बेवसाइट पर जाकर या सम्बन्धित विषय के अध्यापक से दूरभाष पर या व्यक्तिगत सम्पर्क कर उनसे अनुरोध कर पाठ्यक्रम नोट कर लें तथा बार-बार पढ़कर भलीभांति समझ लें। इससे विषय़ वस्तु की जानकारी हो जायेगी, चैप्टरवाइज अंक विभाजन की भी जानकारी हो जायेगी तथा वरीयताक्रम में अधिक अंक वाले चैप्टर को पहले तथा कम अंक वाले चैप्टर को बाद में तैयार करें।

टाइम टेबल बनाए (Create time table)

अपने समयानुसार एक निर्धारित टाइम टेबल बना कर पढ़ाई करें। जो विषय या चैप्टर कठिन लगता हो उस पर अधिक समय दें। ऐसा करने से कठिन लगने वाले विषय या चैप्टर की अच्छी तैयारी हो जायेगी जो कि परीक्षा में अधिकाधिक अंक लाने में मददगार सिध्द होगा।

स्टडी प्लान कर पढ़ाई करे (Study through study plan)

आप का कितना पाठ्यक्रम है, परीक्षा प्रारम्भ होने के कितने दिन शेष बचे हैं, को ध्यान में रखते हुए इस प्रकार से स्टडी प्लान कर के पढ़ाई करें कि परीक्षा के दिन के पूर्व ही सम्पूर्ण पाठ्यक्रम का दो बार रिवीजन अवश्य हो जाए।

आलस्य त्यागें नियमत अध्ययन करे (Laziness leave study)

यह कदापि न सोचें कि इसे आज नही कल पढ़ लेगें। कल कभी नहीं आता। आलस्य का त्याग कर नियमित अध्ययन करें।

स्थिर तथा शान्त वातावण में अध्ययन करे (Stable and peaceful environment)

अध्ययन उस कमरे या स्थान पर करें जहां पर संगीत या टेलीविजन या अन्य कोई ध्वनि या शोरगुल न हो, इससे ध्यान भंग होता है जिसके कारण अध्ययन प्रभावित होता है।

अध्ययन के दैरान नियमित ब्रेक ले (Take regular break during study)

वैज्ञानिकों के द्वारा किए गए शोध के अनुसार मनुष्य का मस्तिष्क एक डेढ़ घण्टे से अधिक समय तक एकाग्र नही रहता। इसके बाद वह विश्राम चाहता है। इसलिए प्रत्येक 45 मिनट पढ़ाई करने के बाद 15 मिनट का ब्रेक लेकर अपने अध्ययन कक्ष के बाहर निकल कर टहलें, अपने मन पसन्द की कोई वस्तु खाना या देखना चाहते हैं तो खाएं / देखें। इससे मस्तिष्क पुनः अध्ययन करने के लिए तरो ताजा हो जाता है। इसके बाद पुनः अपने अध्ययन कक्ष में जाकर पुनः अध्ययन करें।

सोशल मीडिया को नकारे (Deny social media)

अध्ययन के दौरान अपने एण्ड्रायड फोन के सोशल मीडिया (फेसबुक, ह्वाटसएप, ट्विटर आदि एकाउण्ट) को अनिइंस्टाल्ड कर दें अन्यथा अध्ययन के दौरान सोशल मीडिया की नोटीफिकेशन की आवाज होगी, आप अपने फोन को उठायेंगे जिससे आप का ध्यान भंग होगा तथा अध्ययन प्रभावित होगा।

नोट्स बनाएं तथा हाई लाइट करे (Make notes and highlight)

अध्ययन के दौरान विषयानुसार / पाठानुसार टापिक छांटकर हाइलाइटर पेन से हाईलाइट करें तथा अपने हस्तलेख में नोट्स बनायें। इससे अध्ययन किया गया मैटीरियल काफी समय तक याद रहता है तथा रिवीजन में भी सुविधा मिलती है।

रिवीजन करे (Revise)

परीक्षा के दौरान नये चैप्टर को पढ़ने के बजाय रिवीजन पर ध्यान दें इससे पूर्व में पढ़ी गई पाठ्यसामग्री अच्छी तरह कंठस्थ हो जाती है, लम्बे समय तक याद रहती है जिससे आत्मविश्वास बढ़ता है और परीक्षा को लेकर तनाव काफी कम हो जाता है।

माक टेस्ट, माडल पेपर तथा पुराने पेपर साल्व करे (Solve mock test, model paper and old paper)

परीक्षा के दौरान अधिकाधिक संख्या में माक टेस्ट, माडल पेपर तथा पिछले वर्षों में पूंछे गए प्रश्न पत्रों को परीक्षा मानकर एकान्त में बैठकर यह मानकर कि आप परीक्षा दे रहें हैं, परीक्षा हेतु निर्धारित समयावधि में हल करें। उक्त निर्धारित समयावधि में आप जो प्रश्न नही हल कर पाये हैं उन्हें पुनः हल करें। स्वआकलन करें कि परीक्षा हेतु निर्धारित समयावधि में आप कितना हल कर पाते हैं, आप की तैयारी कहां पर हैं, कितनी है, स्वमूल्यांकन करें। कम से कम समय में प्रश्नों को हल कर अपनी दक्षता को बढ़ायें। इससे परीक्षा के दिनों में पूर्ण अत्मविश्वास बढ़ता है तथा तनाव से निजात मिलती है।

सन्तुलित / पौष्टिक आहार ले (Eat a balanced / nutritious diet)

परीक्षा के दौरान अधिक अध्ययन करना पड़ता है जिसके लिए शरीर को ऊर्जा की आवश्यकता पड़ती है। अतः पर्याप्त विटामिन्स, फाइबर, कार्बोहाइड्रेटयुक्त सन्तुलित / पौष्टिक आहार (हरी सब्जियां, सूखे मेवे, अंकुरित अनाज, दूध, अण्डा, पनीर, मौसमी फल आदि) अवश्य लें, दिन में कई बार थोड़-छोड़ा खाते रहें तथा पर्याप्त मात्रा में पानी पीते रहें। ऐसा करने से थकान नही महसूस होगी तथा शरीर को आवश्यक तत्व मिलते रहेंगें जिससे शरीर स्वस्थ रहेगा।

नियमित दिनचर्या,पर्याप्त नींद, मार्निंग वाक, योग तथा प्राणायाम (Regular routine, adequate sleep, morning walk, yoga and pranayama)

पढ़ने, सोने तथा सुबह सोकर उठने कि नियमित दिनचर्या रखें। 7- 8 घण्टे की पर्याप्त नींद लें। मार्निंग वाक, योग तथा प्राणायाम करें। इससे शरीर शारीरिक व मानसिक रूप से स्वस्थ रहता है, एकाग्रता तथा याददाश्त में वृध्दि होती है जिससे जो कुछ पढ़ा जाता है आसानी से कंठस्थ हो जाता है तथा परीक्षा में लक्ष्य हासिल करना आसान हो जाता है।

परीक्षा केन्द्र पर जाने से पूर्व की तैयारी (Preparation before going to the Examination Center)

परीक्षा आरम्भ होने से 3 से 5 दिवस पूर्व अपने परीक्षा केन्द्र तथा वहां पर आने जाने वाले परिवहन साधनों की जानकारी कर लें। परीक्षा देने जाते समय पर्याप्त मात्रा में पेन, पेंसिल, कटर, रबड़, आई0 डी0, प्रवेश पत्र एवं अन्य आवश्यक सामग्री अवश्य ले जाएं। परीक्षा केन्द्र पर कम से कम आधा घण्टे पूर्व अवश्य पहुंचे तथा अपनी जेब को स्वयं ही अच्छी तरह चेक कर लें, कोई अनावश्यक कागज या पर्ची (नकल सामग्री) हो तो उसे निकाल कर फेंक दें।

परीक्षा कक्ष में परीक्षा देते समय ध्यान देने वाली बाते (Things to keep in mind while taking the exam. in the Examination hall)

स्वयं को तनाव मुक्त रखें। परीक्षा सम्बन्धी निर्धारित किए गए नियमों का पूर्णतया पालन करें। सावधानीपूर्वक नाम व रोल नम्बर लिखें। दृढ़ आत्मविश्वास रखें। पहले वही प्रश्न हल करें जो अच्छी तरह आते हों, जो प्रश्न नही आ रहें हैं, उन्हें समय मिलने पर बाद में हल करने का प्रयास करें। प्रश्नपत्र हल करते समय बीच-बीच में समय देखतें रहें तथा समय का विशेष ध्यान रखें। कोई भी प्रश्न जो आप को आता है, समय के अभाव में हल करने से छूटने न पाये।

यदि आप उक्त लेख का भलीभांति अध्ययन करके उस पर पूर्णतया अमल करते हैं तो निःसन्देह उक्त लेख आप के लिए संजीवनी सिध्द होगा तथा आप बोर्ड परीक्षा में 95 प्रतिशत या उससे अधिक अंक हासिल करने का अपना सपना साकार करनें मे अवश्य ही सफल होगें।

Related Articles

Back to top button
The Knowledge Gateway Would you like to receive notifications on latest updates? No Yes