Miscellaneous

कम्प्यूटर का विकास

कम्प्यूटर का विकास

  1. अबेकस (3000 से 2000 ई0 पू0)- इस प्रथम मशीनी कैलकुलेटर का आविष्कार चीन में हुआ जो कि लकड़ी का बना था। इसका प्रयोग आंकिक गणना में किया गया था।
  2. पास्कल्स (1645 ई0)- पास्कल्स का आविष्कार वर्ष 1645 ई0 में फ्रांस के प्रसिध्द वैज्ञानिक ब्लेज पास्कल्स ने किया था। पास्कल्स प्रथम मशीन थी जिससे जोड़, घटाव किया जा सकता था। यह कम्यूटर मशीन 0 से 9 अंक तक दर्शाता था। इसे Adding Machine भी कहा जाता था।
  3. स्वचालित बुनाई मशीन (1801ई0)- स्वचालित बुनाई मशीन का निर्माण वर्ष 1801 ई0 में जोसेफ जैक्वार्ड ने किया था। यह यन्त्र कपड़े की बुनाई करनें में सक्षम था।
  4. बैवेज एनालिस्टिक इंजन (1820ई0)- बैवेज एनालिस्टिक इंजन की खोज वर्ष 1820 ई0 में चार्ल्स बेवेज ने किया था। चार्ल्स बेवेज के कान्सेप्ट का उपयोग करके प्रथम कम्प्यूटर बनाया गया। यही कारण है कि चार्ल्स बेवेज को “कम्प्यूटर का जनक” कहा जाता है। आंगस्टा  ने प्रथम “Demonstration Program” लिखा और इनके बाइनरी अर्थमैटिक योगदान को जांन वांन न्यूमेन ने आधुनिक कम्प्यूटर के विकास के लिए प्रयोग किया। इसी कारण आंगस्टा को “प्रथम प्रोग्रामर” तथा “बाइनरी प्रणाली” का आविष्कारक कहा जाता है।
  5. हरमैन टैबुलेटिंग मशीन (1880 ई0 से 1896 ई0)- हरमैन टैबुलेटिंग मशीन का आविष्कार हौलार्थ ने किया था। डाटा को कार्ड में पंच करने एवं संग्रहीत डाटा को सारणीकृत करने के लिए कोड और यन्त्र का निर्माण किया गया।
  6. मार्क-1 कम्प्यूटर- इस कम्प्यूटर का आविष्कार वर्ष 1942 ई0 में हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के प्रसिध्द वैज्ञानिक एच0 आईकान ने किया था।
  7. प्रथम पूर्णतः इलेक्ट्रानिक कम्प्यूटर ENTAK- ENTAK का पूरा नाम Electronic Numerical Integrated and Calculater था। इस कम्प्यूटर का आविष्कार वर्ष 1946 ई0 में हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के प्रसिध्द वैज्ञानिक एच0 आईकान ने किया था। यह प्रथम पूर्णतः इलेक्ट्रानिक कम्प्यूटर था।
  8. वान न्यूमेन स्टोर्ड प्रोग्राम कान्सेप्ट (1946 ई0 से 1952 ई0)- कम्पयूटर की मेमोरी में डाटा तथा निर्देश स्टार करने का अवधारणा का विकास हुआ। डाटा था निर्देश को बाइनरी में कूटबध्द (code) करने की शुरुआत हुई।
  9. एडजैक (1946 ई0 से 1952 ई0)- एडजैक प्रथम कम्प्यूटर था जो कि सूचनाओं तथा निर्देशों को अपनी मेमोरी में संग्रहीत करने में सक्षम था।
  10. यूनिभैक-1 (1951 ई0 से 1954 ई0)- यह प्रथम कम्पयूटर था जिसमें व्यावसायिक उपयोग एवं प्रथम पीढ़ी के गुण मौजूद थे।

कम्पयूटर की विभिन पीढ़ियां

  1. प्रथम पीढ़ी (1942 ई0 से 1955 ई0)- इस पीढ़ी के कम्प्यूटर इनियक, यूनिभैक-1, मार्क-1 थे। जिसमें से यूनिभैक-1 प्रथम व्यावसायिक कम्प्यूटर था। इस पीढ़ी के कम्प्यूटरों में इलेक्ट्रानिक सर्किट में निर्वात ट्यूब, मशीनी व असेंबली भाषा का उपयोग किया गया। इस पीढ़ी के कम्प्यूटरों में ताप नियन्त्रण की सुविधा नही थी, इनपुट तथा आउटपुट मन्द गति के थे, प्रेग्रामिंग भाषा निम्न स्तरीय थी। इस पीढ़ी के कम्प्यूटरों का उपयोग पैरोल, प्रोसेसिंग तथा रिकार्ड रखने के लिए किया जाता था।
  2. द्वितीय पीढ़ी (1955 ई0 से 1964 ई0)- इस पीढ़ी के कम्प्यूटरों में निर्वात के स्थान पर हल्के छोटे ट्रांजिस्टर का प्रयोग किया गया जिसमें इनपुट व आउटपुट तेज थे। उच्च स्तरीय भाषा कोबोल व फारट्रान का प्रयोग किया गया। आंकड़े संग्रहीत करने के लिए मैग्नेटिक डिस्क व टैप का प्रयोग किया गया। इस पीढ़ी के कम्प्यूटर आई0बी0एम0 1401, हनीवेल-200 तथा सी0डी0सी0-1604 हैं।
  3. तृतीय पीढ़ी (1965 ई0 से 1974 ई0)- इस पीढ़ी के कम्प्यूटरों में टीग्रेटेड चिप का उपयोग किया गया, उच्च स्तरीय भाषा का भारी पैमाने पर उपयोग किया गया। इनपुट को नियन्त्रित करने के लिए साफ्टवेयर का उपयोग किया गया। रिमोट प्रोसेसिंग, मल्टीप्रोग्रामिंग व टाइम शेयरिंग का उपयोग किया गया। इस पीढ़ी के  कम्प्यूटर आई0बी0एम0 सिस्टम-360, एन0सी0आर0-395 हैं जिनका उपयोग क्रेडिट कार्ड, रिजर्वेशन, मार्केट फार्कास्टिंग एवं एयरलाइन में किया जाता था।
  4. चतुर्थ पीढ़ी- इस पीढ़ी के कम्प्यूटर आई0बी0एम0 पी0सी0-XT, एप्पल आदि हैं जिनमें माइक्रोप्रोसेसर का उपयोग किया गया। इन क्मप्यूटरों का उपयोग इलेक्ट्रानिक फण्ड ट्रान्सफर, व्यावसायिक उत्पादन व व्यक्तिगत उपयोग में किया गया। MS-DOSS, MS-WINDOWS तथा भाषा का विकास हुआ।
  5. पंचम पीढ़ी- इस पीढ़ी के कम्प्यूटर आई0बी0एम0 नोटबुक, पेंटियम पीसी, सुपर कम्प्यूटर आदि हैं जिनका उपयोग इंटरनेट, मल्टीमीडिया आदि का उपयोग करनें में किया गया। इस पीढ़ी के क्प्यूटरों में भण्डारण के लिए आप्टिकल डिस्क का उपयोग किया गया। इस पीढ़ी के कम्प्यूटर उपयोग में आसान, तीव्र एवं आकार में छोटे हैं। वर्तमान समय में पांचवीं पीढ़ी के कम्प्यूटरों का उपयोग किया जाता है।

Related Articles

Back to top button
Would you like to receive notifications on latest updates? No Yes

AdBlock Detected

Please Consider Supporting Us By Disabling Your AD Blocker