Miscellaneous

इण्टरपोल (Interpol)

इण्टरपोल (Interpol)

इण्टरपोल का इतिहास, स्थापना, मुख्यालय एवं सदस्य (History of Interpol, Establishment, Headquarter and Member)

इण्टरपोल एक अन्तर्राष्ट्रीय आपराधिक पुलिस संगठन है। Interpol का अंग्रेजी में फुल फार्म International Criminal Police Organization है जिसका हिन्दी रूपान्तर अन्तर्राष्ट्रीय आपराधिक पुलिस संगठन है। प्रथम विश्व युध्द के पश्चात यूरोप में अपराधियों की संख्या तेजी से बढ़ने लगी जिसके कारण अपराधों में अप्रत्याशित वृध्दि होने लगी, दहशत एवं अशान्ति का माहौल व्याप्त होने लगा, आस्ट्रिया के कुछ अपराधी दूसरे देशों में चले गये,  अपराध नियन्त्रण एवं शान्ति व्यवस्था स्थापित करने के लिए इन अपराधियों की गिरफ्तारी किया जाना आवश्यक था परन्तु तत्समय प्रचलित नियमों के अनुसार दूसरे देशों में जाकर गिरफ्तार करना सम्भव नही था। उपरोक्त परिस्थितियों में उक्त उद्देश्यों की पूर्ति के लिए एक अन्तर्राष्ट्रीय संगठन की आवश्यकता महसूस की गई जिसकी पूर्ति के लिए वर्ष 1923 ई0 में आस्ट्रिया की राजधानी वियना में विभिन्न देशों के पुलिस आधिकारियों की आयोजित की गयी जिसमें 20 देशों ने आपस में मिलकर अपराध की रोंकथाम के सम्बन्ध में एक दूसरे को पूर्ण सहयोग करने हेतु अन्तर्राष्ट्रीय आपराधिक पुलिस संगठन (इण्टरपोल) की स्थापना की। इस प्रकार इण्टरपोल की स्थापना वर्ष 1923 ई0 में हुई जिसकी स्थापना के 98 वर्ष पूरे हो रहें हैं। बाद में धीरे-धीरे इण्टरपोल के सदस्यों की संख्या बढ़ती गयी। वर्तमान में इण्टरपोल में सदस्य देशों की संख्या 194 हैं। भारत इस संस्था का सदस्य वर्ष 1949 ई0 में बना है।

इण्टरपोल एक ऐसा स्वतन्त्र अन्तर्राष्ट्रीय पुलिस संगठन है जिसमें पुलिस से साथ-साथ नागरिक भी सम्मिलित किये गये हैं। इण्टरपोल का मुख्यालय लियोन (फ्रान्स) में है। विश्व में इण्टरपोल के 07 क्षेत्रीय ब्यूरो तथा एक राष्ट्रीय केन्द्रीय ब्यूरो है जो कि आपस में मिलकर इण्टरपोल को विश्व का सबसें बड़ा पुलिस संगठन बनाते हैं। इण्टरपोल एक ऐसा अन्तर्राष्ट्रीय पुलिस संगठन है जिसमें सभी सदस्य देशों की पुलिस सम्मलित रहती है तथा प्रत्येक सदस्य देश में इण्टरपोल का अफिस होता है जिसे नेशनल सेन्ट्रल ब्यूरो कहा जाता है जो कि उस देश की पुलिस को इण्टरपोल से अन्य सदस्य देशों के पुलिस संगठन से जोड़ता है तथा आपस में समन्वय स्थापित करके आवश्यकतानुसार सम्बन्धित सूचनाओं का आदान-प्रदान करते हुए एक दूसरे का पूर्ण सहयोग किया जाता है। इण्टरपोल अपने सभी सदस्य देशों को अपने-अपने देश में अपराध नियन्त्रण में सहयोग प्रदान करता है। इण्टरपोल का आदर्श वाक्य Connecting police for a safer world है। वर्ष 1956 ई0 में सदस्य देशों द्वारा मिलकर इण्टरपोल का संविधान निर्मित किया गया जिसके अनुसार इण्टरपोल कार्य करता है।

प्रत्येक वर्ष कोई न कोई देश इण्टरपोल की मोजबानी करता है, वर्ष 2022 ई0 में अपनी आजादी की 75 वीं वर्षगांठ के अवसर पर भारत इण्टरपोल की मेजबानी करेगा। यह दूसरा अवसर है जब भारत इण्टरपोल की मेजबानी करने जा रहा है। इससे पूर्व भारत ने वर्ष 1997 ई0 में इण्टरपोल की मेजबानी किया था।

अध्यक्ष, उपाध्यक्ष तथा महासचिव (President, Vice President and General Secretary)

इण्टरपोल के प्रथम अध्यक्ष Johann थे। इण्टरपोल के वर्तमान अध्यक्ष दक्षिण कोरिया के किम जोंग-यांग हैं जो वर्ष 2018 में चुने गये हैं। इण्टरपोल के वर्तमान उपाध्यक्ष अलेक्जेण्डर प्रोकोपचक हैं जे रूस के निवासी हैं। इण्टरपोल के वर्तमान महासचिव जर्मन स्टांक हैं। इण्टरपोल के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष तथा महासचिव का चुनाव सदस्य देशों द्वारा किया जाता है।

इण्टरपोल का उद्देश्य (Aim of Interpol)

इण्टरपोल का मुख्य उद्देश्य विश्व को मानव मात्र के रहने हेतु सुरक्षित स्थान बनाना, अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर फैले आतंकवाद से लड़ना एवं सभी सदस्य देशों के पुलिस संगठन को सशक्त बनाना हैं।

इण्टरपोल के कार्य (Interpol Functions)

  1. इण्टरपोल द्वारा तैयार की गई वैश्विक पुलिस संचार प्रणाली I-24/7 के माध्यम से सभी सदस्य देश सूचनाओं का आदान-प्रदान तथा फ्रिंगर प्रिण्ट, मोटर वाहन चोरी, डी0 एन0 ए0 आदि से जुड़ी जानकारी साझा करते हैं।
  2. एक देश में अपराध करके दूसरे भाग गये भगोड़े अपराधियों की तलाश करने तथा उसकी गिरफ्तारी किया जाना तथा मानव तस्करी रोंकना।
  3. अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर आतंकवाद के विरूध्द एकजुटता बनाना तथा परमाणु एवं विस्फोटक खतरों से निपटने के उपाय किया जाना।
  4. वैश्विक स्तर पर बढ़ते हुए साइबर अपराध की चुनौतियों की पहचान कर उनकी जांच करना एवं नवीन प्रौद्योगिकी विकसित कर साइबर अपराध से होने वाले खतरों से निपटने के उपाय करना।
  5. संगीन अपराध करने वाले अपराधियों के विरूध्द नियमनानुसार रेड नोटिस, ब्ल्यू नोटिस, ग्रीन नोटिस, बैगनी नोटिस, येलो नोटिस, ब्लैक नोटिस तथा आरेंज रंग की नोटिस जारी करता है।
  6. किसी अपराधी की गिरफ्तारी या उसके प्रत्यर्पण के लिए रेड नोटिस जारी करता है।
  7. किसी व्यक्ति के सम्बन्ध में अतिरिक्त जानकारी प्राप्त करने या सूचना देने के लिए ब्ल्यू नोटिस जारी करता है।
  8. ऐसे अपराधी जो कोई जघन्य अपराध करके दूसरे देश में जाकर भी अपराध कर सकते हैं, के बारे में ग्रीन नोटिस जारी करता है।
  9. अपराध करने के तरीके, वस्तुएं, डिवाइस तथा अपराधियों द्वारा बचने हेतु प्रयोग किए गये तरीकों के इस्तेमाल के लिए बैगनी रंग की नोटिस जारी करता है।
  10. गुमशुदा नाबालिग बच्चों के सम्बन्ध में सूचनाएं देने के लिए पीले रंग की नोटिस करता है।
  11. किसी लाश की शिनाख्त न हो पाने पर काले रंग की नोटिस जारी करता है।
  12. पार्सल बम, अरेंज नोटिस बम आदि की सूचना देने के लिए आरेंज रंग की नोटिस जारी करता है।

Related Articles

Back to top button
Would you like to receive notifications on latest updates? No Yes

AdBlock Detected

Please Consider Supporting Us By Disabling Your AD Blocker