Miscellaneous

मोल की अवधारणा (Mole concept)

मोल की अवधारणा (Mole concept)

हमारे आस-पास जो भी वस्तुएं (objects) रहती हैं, उन्हें हम देख सकते हैं, महसूस कर सकते हैं। जो कुछ भी आकाश में रहता है, जिसका द्रव्यमान हो पदार्थ (matter) कहलाता है। प्राचीन भारतीय तथा यूनानी दार्शनिकों के अनुसार विभिन्न प्रकार की वस्तुएं पांच तत्वों (जल, वायु, पृथ्वी, अग्नि तथा आकाश) के मेल से बनी हैं। यूनानी दार्शनिकों के अनुसार पदार्थ छोटे-छोटे अविभाज्य व्लाक से मिलकर बना है। आगे चलकर ग्रीक दार्शनिक “डेमोक्रेट्स” नें इन व्लाकों को “परमाणु” नाम दिया जिसका अर्थ है अविभाज्य। आगे चलकर प्रसिध्द वैज्ञानिक जान डाल्टन ने पदार्थ की संरचना पर सर्वप्रथम एक सिध्दान्त दिया जिसे “डाल्टन का परमाणु सिध्दान्त” कहा जाता है।

डाल्टन के परमाणु सिध्दान्त के अनुसारः पदार्थ बहुत ही छोटे-छोटे अविभाज्य कणों से मिल कर बना होता है जिसे “परमाणु” कहा जाता है। किसी पदार्थ के सभी परमाणु सभी प्रकार से एक समान होते हैं, अर्थात् प्रत्येक परमाणु का आकार, द्रव्यमान तथा आकृति समान होती है तथा किसी भी तरह से परमाणु न तो बनाये जा सकते हैं और न ही नष्ट किये जा सकते हैं।

पदार्थ का वर्गीकरण (Classification of matter)

पदार्थ का वर्गीकरण दो प्रकार से किया जा सकता है- भौतिक व्यवहार के आधार पर तथा रासायनिक व्यवहार के आधार पर।

भौतिक व्यवहार के आधार पर पदार्थ तीन प्रकार के होते हैं- ठोस, द्रव तथा गैस।

रासायनिक व्यवहार के आधार पर पदार्थ दो प्रकार के होते हैं- शुध्द पदार्थ तथा मिश्रित पदार्थ। शुध्द पदार्थ दो प्रकार के होते हैं- तत्व तथा यौगिक।

सापेक्ष परमाणु द्रव्यमान (Relative atomic mass)

डाल्टन के परमाणु सिध्दान्त से सर्वमहत्वपूर्ण अवधारणा एक सापेक्ष परमाणु द्रव्यमान या सापेक्ष परमाणु भार की थी। डाल्टन नें हाइड्रोजन का उपयोग मानक (H=1) के रूप में किया। तत्पश्चात आक्सीजन (O=16) ने हाइड्रोजन को सन्दर्भ के रूप में बदल दिया। इसीलिए सापेक्ष परमाणु द्रव्यमान को हाइड्रोजन के पैमाने पर दिया जाता है।

हाइड्रोजन पैमाने परः सापेक्ष परमाणु द्रव्यमान =  तत्व के एक परमाणु का द्रव्यमान / हाइड्रोजन के एक परमाणु का द्रव्यमान।

आक्सीजन पैमाने परः सापेक्ष परमाणु द्रव्यमान =  तत्व के एक परमाणु का द्रव्यमान / आक्सीजन के 1/16 परमाणु का द्रव्यमान।

वर्तमान समय में अन्तर्राष्ट्रीय मानक इकाई कार्बन-12 परमाणु के द्रव्यमान पर आधारित है जो कि वर्ष 1961 में अपनाई गई थी।

सापेक्ष परमाणु द्रव्यमान  =  तत्व के एक परमाणु का द्रव्यमान / कार्बन-12 के एक परमाणु का 1/16 भाग द्रव्यमान।

  परमाणु द्रव्यमान इकाई (Atomic mass unit)

परमाणु द्रव्यमान इकाई (a.m.u.) कार्बन-12 आइसोटोप के एक परमाणु के 12 द्रव्यमान के बराबर है।

1 a.m.u.  =  1/12 × mass of one C-12 atom

= 1.66 ×  10-24 g  or  1.66 ×  10-27 kg

वर्तमान समय में a.m.u. को एकीकृत द्रव्यमान माना जाता है।

परमाणु तथा आणविक द्रव्यमान (Atomic and molecular mass)

किसी पदार्थ का परमाणु द्रव्यमान उस पदार्थ के एक परमाणु का द्रव्यमान होता है जिसे a.m.u. में व्यक्त किया जाता है।

परमाणु द्रव्यमान = सापेक्ष परमाणु द्रव्यमान (R.A.M.) ×  1 a.m.u.

आणविक द्रव्यमान = सापेक्ष आणविक द्रव्यमान  ×  1 a.m.u.

मोल (Mole)

मोल पदार्थ की वह मात्रा है जिसमें कई संस्थाएं ( परमाणु, अणु या अन्य कण) होते हैं। कार्बन 12 आइसोटोप के 12 ग्राम में 6.023 ×  1023 परमाणु पाये जाते हैं। मोल संख्या को एवोगाद्रों स्थिरांक या नियतांक के रूप में जाना जाता है जिसे N  से प्रकट करते हैं।

1 mole = 6.023 × 1023

मोल किसी पदार्थ के मात्रा मापने की  SI मूल इकाई है। इसका उपयोग बहुत छोटी चीजों के मापन के लिए किया जाता है।

ग्राम परमाणु द्रव्यमान (Gram Atomic Mass)

किसी तत्व के परमाणु द्रव्यमान को ग्राम तत्व 00 ग्राम कहा जाता है। इसे 6.023 × 1023 परमाणुओं से द्रव्यमान के रूप में परिभाषित किया जाता है। 01 ग्राम मोल कार्बन का भार 12 ग्राम तथा 01 ग्राम मोल जल का भार 18.016 ग्राम हैं। 01 ग्राम मोल सोडियम का भार 22.99 ग्राम तथा 01 ग्राम मोल कैल्शियम का भार 40.07 ग्राम है।

ग्राम आणविक द्रव्यमान (Gram molecular Mass)

ग्राम में व्यक्त किये जाने वाले आणविक द्रव्यमान को पदार्थ का ग्राम आणविक द्रव्यमान कहा जाता है। इसे 6.023 × 1023 अणुओं के द्रव्यमान के रूप में व्यक्त किया जाता है।

आदर्श गैस का आयतन (Ideal gas volume)

मानक ताप तथा दाब (Standard temperature and pressure) पर एक मोल आदर्श गैस का आयतन 22.4 लीटर होता है।

Related Articles

Back to top button
Would you like to receive notifications on latest updates? No Yes

AdBlock Detected

Please Consider Supporting Us By Disabling Your AD Blocker