Miscellaneous

राजतन्त्र (Monarchy)

राजतन्त्र (Monarchy)

राजतन्त्र क्या है ?

राजतन्त्र शासन की वह प्रणाली है जिसमें एक व्यक्ति (राजा) शासन का सर्वे सर्वा (Supremo) होता है जो जनता द्वारा नहीं चुना जाता बल्कि वंशगत् होता है अथवा किसी दूसरे राजा को युद्ध में पराजित करके राजा बनता है । इस शासन प्रणाली में योग्यता का कोई स्थान नहीं होता । राजतंत्र संसार की सबसे पुरानी शासन प्रणाली है जिसके अनुसार राजा के बाद राजा का पुत्र, भाई, भतीजा या  राजघराने का अन्य कोई व्यक्ति किसी राजा अपना युवराज नियुक्त करे, वही राजा होता है चाहे वह योग्य हो या अयोग्य । राजतन्त्र दो प्रकार का होता है- संवैधानिक राजतन्त्र तथा निरंकुश राजतन्त्र। निरंकुश राजतन्त्र में राजा निरंकुश होता है जिसके ऊपर किसी नियम कानून का कोई अंकुश नही होता तथा मनमाने शासन करता है। निरंकुश राजतन्त्र को पूर्ण राजतन्त्र भी कहा जाता है। संवैधानिक राजतन्त्र में राजा सर्वोच्च शासक तो होता है परन्तु उसकी शक्तियां किसी कानून या संविधान द्वारा सीमित होती हैं जिसके कारण वह मनमाने शासन नही कर सकता है। ब्रिटेन, न्यूजीलैण्ड, पापुआ न्यू गिनी, उत्तरी आयरलैण्ड, बेलीज, सेंट लूसिया, सोलोमन द्वीप, जमैका, कनाडा अण्टीगुआ एवं बारवूडा, किंगडम आफ डेनमार्क तथा जापान में संवैधानिक राजतन्त्र है। स्विटजरलैण्ड, ओमान तथा दारूस्सलाम में पूर्ण राजतन्त्र है।

राजतन्त्र में राजा का पद, स्वरूप तथा शक्तियाः

राजतन्त्र में  राजा का पद वंशगत् होता है तथा एक विशेष परिवार (राजघराना) से ही पीढ़ी दर पीढ़ी चुना जाता है। राजतन्त्र शासन में राजा को ईश्वर का प्रतिनिधि माना गया है । राजतन्त्र में जनता द्वारा निर्वाचित न होने के कारण राजा निरंकुश होता है, सर्वोच्च होता है, उस पर किसी का नियन्त्रण नहीं होता तथा वह अपनी इच्छानुसार मनमाने ढंग से जनता पर शासन करता है, अत्याचार करता है, स्वार्थी होता है, उसे जनता के सुख-दुख से कोई मतलब नहीं रहता।

वैदिक साहित्य के अनुसार राजा का स्वरूपः

वैदिक साहित्य के अनुसार राजतन्त्र में कल्याणकारी राजा का विचार निहित है। प्राचीन भारत में राजतन्त्र होने के बावजूद भी राजा कल्याणकारी होता था, प्रजापालक एवं प्रजावत्सल  होता था, प्रजा पर अत्याचार नहीं करता था।

राजतन्त्र शासित राष्ट्रः

विश्व भर के राजाओं को अलग-अलग नामों से जाना जाता है। एक राष्ट्र प्रमुख को राजा, सम्राट, राजकुमारी, रानी, महारानी, सम्राज्ञी कहा जाता है। स्विट्ज़रलैंड ओमान, डेनमार्क,  ब्रुनेई, बहरीन तथा दारूस्सलाम, जापान राजतन्त्र शासित राष्ट्र हैं।

. राजतन्त्र में शक्तियां किसमें निहित होती है?  

राजतन्त्र में शासन सत्ता की सारी विधायी, कार्यपालिका और न्यायिक शक्तियां राजा में निहित होती हैं। राजा का आदेश ही कानून एवं न्याय होता है चाहे वह तटस्थ हो या स्वार्थ से प्रेरित।

. राजतन्त्र में आय के स्रोत क्या- क्या हैं?  

राजतन्त्र में राजा की आय का स्रोत जनता से प्राप्त कर, विदेशों पर आक्रमण कर के लूटा गया धन तथा सामन्तों द्वारा दी गई भेंटें होती हैं जिसका उपयोग राजा स्वेच्छा से करता है। प्राय: राजा जनहित कार्यों पर कम धन खर्च करता है तथा निजी स्वार्थ पर अधिक।

.  राजतन्त्र कितने प्रकार का होता है?

राजतन्त्र दो प्रकार का होता है- संवैधानिक राजतन्त्र तथा निरंकुश राजतन्त्र।

. किस शासन प्रणाली में शासन का सर्वे सर्वा (Supremo) राजा  होता है?

राजतन्त्रात्मक शासन प्रणाली में शासन का सर्वे सर्वा (Supremo) राजा  होता है।

. राजतन्त्रात्मक शासन प्रणाली में राजा का पद कैसा होता है?

राजतन्त्रात्मक शासन प्रणाली में राजा का पद वंशगत होता है।

. राजतन्त्रात्मक शासन प्रणाली में राजा को किसका प्रतिनिधि माना गया है?

राजतन्त्रात्मक शासन प्रणाली में राजा को ईश्वर का प्रतिनिधि माना गया है।

. वैदिक साहित्य के अनुसार राजतन्त्र में किस प्रकार के राजा का विचार निहित है?

वैदिक साहित्य के अनुसार राजतन्त्र में कल्याणकारी राजा का विचार निहित है।

. राजतन्त्रात्मक शासन प्रणाली में दण्ड देने का अधिकार किसे है?

राजा को।

. राजतन्त्रात्मक शासन प्रणाली में राजा की आय का स्रोत क्या है?

जनता से प्राप्त कर, विदेशों पर आक्रमण कर के लूटा गया धन तथा सामन्तों द्वारा दी गई भेंट।

. किस शासन प्रणाली में राजा स्वार्थी होता है?

राजतन्त्रात्मक शासन प्रणाली।

 

Related Articles

Back to top button
Would you like to receive notifications on latest updates? No Yes

AdBlock Detected

Please Consider Supporting Us By Disabling Your AD Blocker