Miscellaneous

नासा (NASA)

नासा (NASA)

NASA विश्व के सबसे शक्तिशाली एवं विकसित देश संयुक्त राज्य अमेरिका की अन्तरिक्ष एजेन्सी है जिसका पूरा नाम “ Aeronautics and Space Sdministration” है तथा हिन्दी नाम “राष्ट्रीय वैमानिकी तथा अन्तरिक्ष प्रबन्धन” है। यह संयुक्त राज्य अमेरिका की स्वतन्त्र शाखा है जो कि उपग्रहों के माध्यम से अन्तरिक्ष में विविध अनुसंधान (Research) करती है। नासा का मुख्य कार्य “अन्तरिक्ष कार्यक्रमों तथा वैमानिकी के सम्बन्ध में खोज करना (Exploring in relation to space programs and aeronautics)” है। नासा के अध्यक्ष को “एडमिनिस्ट्रेटर” कहा जाता है। नासा के प्रथम अध्यक्ष टी कीथ ग्लेनन थे। नासा के वर्तमान अध्यक्ष जेम्स ब्रिडेनस्टाइन हैं जो नासा के 13 वें अध्यक्ष हैं। नासा के वर्तमान अध्यक्ष जेम्स ब्रिडेनस्टाइन ने पूर्व में भारतीय अन्तरिक्ष एजेंसी इसरो के द्वारा अर्जित की गई महानतम उपलब्धियों से प्रभावित होकर 04 अप्रैल 2019 को इसरो (भारतीय अन्तरिक्ष एजेन्सी) के अध्यक्ष के0 सिवान को लिखे पत्र में कहा है कि, “वे इसरों के अन्तरिक्ष अभियान ( अन्तरिक्ष में भेजने आदि) को लेकर बेहद उत्साहित हैं तथा नासा का इसरो (भारतीय अन्तरिक्ष एजेन्सी) के साथ सहयोग बराबर बरकरार रहेगा”।

स्थापना (The establishment)

नासा (राष्ट्रीय वैमानिकी तथा अन्तरिक्ष प्रबन्धन) की स्थापना संयुक्त राज्य अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति ड्वाइट डी आइजनहावर द्वारा 29 जुलाई 1958 ई0 को की गई थी।

मुख्यालय (The headquarters)

संयुक्त राष्ट्र संघ की अन्तरिक्ष एजेन्सी नासा (राष्ट्रीय वैमानिकी तथा अन्तरिक्ष प्रबन्धन) का मुख्यालय वाशिंगटन डी0 सी0 (अमेरिका) में हैं।

नासा की उपलब्धियां (NASA,s Achievement)

संयुक्त राज्य अमेरिका की अन्तरिक्ष एजेंसी नासा विश्व की सर्वोच्च अन्तरिक्ष एजेंसी है। नासा ने अपनी स्थापना से लेकर वर्ष 2020 तक कुल 62 वर्षों के अपने कार्यकाल में अब तक अनेकानेक महानतम उपलब्धियां हासिल की है। कुछ महत्वपूर्ण उपलब्धियां निम्नवत हैः

  1. अमेरिकी अन्तरिक्ष एजेंसी नासा ने वर्ष 1969 ई0 में अपने सुप्रसिध्द शक्तिशाली यान “अपोलो ” के माध्यम से अन्तरिक्ष यात्री नील आर्मस्ट्रांग को चन्द्रमा पर भेजा। उक्त यान के माध्यम से अन्तरिक्ष यात्री नील आर्मस्ट्रांग 20 जुलाई 1969 ई0 को चन्द्रमा पर पहुंचे जो कि चन्द्रमा पर सर्वप्रथम कदम रखने वाले विश्व के प्रथम व्यक्ति थे। इससे पूर्व विश्व का की भी देश चन्द्रमा पर अन्तरिक्ष यात्री भेजनें सफल नही हुआ था। इस प्रकार अमेरिकी अन्तरिक्ष एजेंसी नासा विश्व की वह प्रथम अन्तरिक्ष एजेंसी है जिसने सबसे पहले चन्द्रमा पर यान के माध्यम से अन्तरिक्ष यात्री भेजनें में सफलता हासिल की थी।
  2. अमेरिकी अन्तरिक्ष एजेंसी नासा ने वर्ष 1981 ई0 में एक ऐसा स्पेस स्पेसक्राफ्ट तैयार किया जो कि एक से अधिक बार उपयोग में लाया जा सकता है। इसके पूर्व उक्त अभूतपूर्व सफलता को विश्व के किसी भी देश की अन्तरिक्ष एजेंसी हासिल नही कर पायी थी। उक्त उपलब्धि सर्वप्रथम हासिल करना वाली प्रथम अन्तरिक्ष एजेंसी नासा ही थी।
  3. अमेरिकी अन्तरिक्ष एजेंसी नासा के वैिकों ने वर्ष 1999 ई0 में “सुपर सेंसेटिव एक्स-रे टेलीस्कोप” का आविष्कार किया जिसके माध्यम से स्प्लिट सेकेण्ड को देखना संभव हो गया। इससे पूर्व उक्त अभूतपूर्व सफलता को विश्व के किसी भी देश की अन्तरिक्ष एजेंसी हासिल नही कर सकी थी। उक्त उपलब्धि को सर्वप्रथम हासिल करने वाली विश्व की प्रथम अन्तरिक्ष एजेंसी अमेरिका की अन्तरिक्ष एजेंसी नासा ही है।
  4. अमेरिकी अन्तरिक्ष एजेंसी नासा के वैज्ञानिकों ने वर्ष 1996-97 ई0 में अपने मानव रहित अभियान के तहत “मार्स पाथफाइण्डर रोबोट” मंगल ग्रह पर सफलतापूर्वक भेजकर मंगल ग्रह के सम्बन्ध में उल्लेखनीय जानकारी (जैसे- संभवतः मंगल पर पानी है, मंगल गर्म है तथा जीवन के अनुकूल है) हासिल करनें में अभूतपूर्व सफलता हासिल किया। इससे पूर्व उक्त अभूतपूर्व सफलता को विश्व के किसी भी देश की अन्तरिक्ष एजेंसी हासिल नही कर सकी थी। उक्त उपलब्धि को सर्वप्रथम हासिल करने वाली विश्व की प्रथम अन्तरिक्ष एजेंसी अमेरिका की अन्तरिक्ष एजेंसी नासा ही है।
  5. पिछले कुछ दशकों में भारतीय अन्तरिक्ष एजेंसी “इसरो” द्वारा अन्तरिक्ष के क्षेत्र में हासिल किए गए कई कीर्तिमानों से प्रभावित होकर अमेरिकी अन्तरिक्ष एजेंसी नासा नें वर्ष 2008 में वर्ष 2034 तक शान्तिपूर्ण प्रयोजनों के लिए बाह्य अन्तरिक्ष की खोज तथा उपयोग के लिए भारतीय अन्तरिक्ष एजेंसी इसरों से सहयोग का समझौता किया है। उक्त समझौते के तहत नासा तथा इसरों संयुक्त रूप से “नासा-इसरो सिंथेटिक अपर्चर रडार (निसार मिशन)”  पर कार्य कर रहे हैं जिसके वर्ष 2021 तक पूर्ण होने की संभावना है।

Related Articles

Back to top button
The Knowledge Gateway Would you like to receive notifications on latest updates? No Yes

AdBlock Detected

Please Consider Supporting Us By Disabling Your AD Blocker