विश्व बैंक (World Bank)

0
7
world bank

विश्व बैंक (World Bank)

विश्व बैंक एक मौद्रिक अन्तर्राष्ट्रीय वित्तीय संगठन है जिसका पुराना नाम अन्तर्राष्ट्रीय पुनर्निर्माण एवं विकास बैंक है। अन्तर्राष्ट्रीय पुनर्निर्माण एवं विकास बैंक तथा अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष की स्थापना 22 जुलाई 1944 ई0 को संयुक्त राज्य अमेरिका के न्यू हैम्पशायर में आयोजित 44 देशों के जनप्रतिनिधियों के ब्रेटन वुड्स सम्मेलन में की गयी थी जिसके कारण इन दोनों संस्थाओं को ब्रेटन वुड्स की संस्था भा कहा जाता हैं। उक्त दोनों संस्थाओं का तात्कालिक उद्देश्य द्वितीय विश्व युध्द तथा विश्वव्यापी संकटग्रस्त देशों की वित्तीय सहायता करना था। बाद अन्तर्राष्ट्रीय पुनर्निर्माण एवं विकास बैंक को विश्व बैंक कहा जाने लगा। इस प्रकार विश्व बैंक की स्थापना 22 जुलाई 1944 ई0 को हुई है। विश्व बैंक का मुख्यालय संयुक्त राज्य अमेरिका की राजधानी वाशिंगटन डी0 सी0 में हैं। वर्तमान में विश्व बैंक के सदस्य देशों की संख्या 189 है। विश्व बैंक का मुख्य उद्देश्य सदस्य देशों को पुनर्निर्माण एवं विकास कार्यों में वित्तीय सहायता प्रदान कर गरीबी कम करना है। किसी भी देश को विश्व बैंक का सदस्य बनने के लिए पहले अन्तर्राष्ट्रीय वित्त निगम का सदस्य बनना आवश्यक है। विश्व बैंक के प्रथम अध्यक्ष यूजीन मेयर थे जो वर्ष 1946 ई0 में ही विश्व बैंक के अध्यक्ष बनाये गये थे तथा संयुक्त राज्य अमेरिका के निवासी थे। विश्व बैंक के वर्तमान अध्यक्ष डेविस मल्पास हैं जो कि संयुक्त राज्य अमेरिका के निवासी तथा विश्व बैंक के 13 वें अध्यक्ष हैं। संयुक्त राज्य अमेरिका विश्व बैंक का सबसे बड़ा शेयरधारक है जो कि विश्व बैंक के अध्यक्ष का नाम प्रस्तावित करता है।

विश्व बैंक के संगठन (Organization of World Bank)

विश्व बैंक 05 अन्तर्राष्ट्रीय संगठनों का एक समूह है जो कि निम्नवत हैः

  1. पुनर्निर्माण एवं विकास हेतु अन्तर्राष्ट्रीय बैंक (International Bank for Reconstruction and Development)।
  2. अन्तर्राष्ट्रीय वित्त निगम (International Finance corporation)।
  3. निवेश सम्बन्धी विवादों के निस्तारण के लिए अन्तर्राज्यीय केन्द्र (International center for settlement of investment related disputes )।
  4. बहुपक्षीय निवेश गारन्टी एजेन्सी (Multilateral Investment Guarantee Agency)।
  5. अन्तर्राष्ट्रीय विकास मंच (International Development Association)।

पुनर्निर्माण एवं विकास हेतु अन्तर्राष्ट्रीय बैंक (International Bank for Reconstruction and Development)

पुनर्निर्माण एवं विकास हेतु अन्तर्राष्ट्रीय बैंक का संक्षिप्त नाम आई0 बी0 आर0 डी0 (I.B.R.D) है। पुनर्निर्माण एवं विकास हेतु अन्तर्राष्ट्रीय बैंक की स्थापना वर्ष 1944 ई0 में हुई थी। वर्तमान में I.B.R.D के सदस्य देशों की संख्या 189 हैं।इसका उद्देश्य विकासशील एवं ऋणग्रस्त गरीब देशों को ऋण तथा गैर-उधार सेवाएं उपलब्ध कराकर उनका विकास करना है। I.B.R.D विश्व बैंक के परिचालन खर्च भी वहन करता है।

अन्तर्राष्ट्रीय वित्त निगम (International Finance Corporation)

अन्तर्राष्ट्रीय वित्त निगम विश्व बैंक की अति महत्वपूर्ण संस्था है जिसकी स्थापना वर्ष 1956 ई0 में हुई थी। अन्तर्राष्ट्रीय वित्त निगम का संक्षिप्त नाम I.F.C. है। वर्तमान समय में I.F.C. के सदस्य देशों की संख्या 184 है। यह संस्था विकासशील देशों में कम्पनियों तथा वित्तीय संस्थानों को राजस्व जुटाने, रोजगार का सृजन करने, कार्पोरेट जगत तथा पर्यावरण प्रदर्शन में सुधार करने आदि में वित्तीय मदद करती है।

निवेश सम्बन्धी विवादों के निस्तारण के लिए अन्तर्राज्यीय केन्द्र (International center for settlement of investment related disputes)

निवेश सम्बन्धी विवादों के निस्तारण के लिए अन्तर्राज्यीय केन्द्र  विश्व बैंक का अत्यन्त महत्वपूर्ण संगठन है जिसका संक्षिप्त नाम I.C.S.I.D. है। I.C.S.I.D. एक स्वायत्त अन्तर्राष्ट्रीय संस्था है जिसकी स्थापना वर्ष 1966 ई0 में की गई थी। इस संस्था का मुख्य उद्देश्य निवेश सम्बन्धी अन्तर्राष्ट्रीय विवादों को येन-केन प्रकारेण तथा सुलह-समझौते के माध्यम से निपटाना है।

बहुपक्षीय निवेश गारन्टी एजेन्सी (Multilateral Investment Guarantee Agency)

बहुपक्षीय निवेश गारन्टी एजेन्सी को संक्षेप में M.I.G.A. कहा जाता है जिसकी स्थापना 12 अप्रैल 1988 ई0 को की गई थी। वर्तमान में M.I.G.A. के सदस्य देशों का संख्या 179 है। इस संस्था का मुख्य उद्देश्य विश्व के विकासशील देशों में प्रत्यक्ष विदेय़ी निवेश को बढ़ावा देना है ताकि उनकी गरीबी दूर हो तथा उनके विकास का मार्ग प्रशस्त हो सके। भारत वर्ष 1994 ई0 में इस संस्था का सदस्य बना है।

अन्तर्राष्ट्रीय विकास मंच (International Development Association)

अन्तर्राष्ट्रीय विकास मंच का संक्षिप्त नाम I.D.A. है । अन्तर्राष्ट्रीय विकास मंच की स्थापना वर्ष 1960 ई0 में हुई थी। वर्तमान में अन्तर्राष्ट्रीय विकास मंच के सदस्य देशो की संख्या 173 है। यह विश्व बैंक का अति महत्वपूर्ण संगठन है जिसका मुख्य उद्देश्य विश्व के गरीब देशों के आर्थिक विकास को बढ़ावा देना, असमानता कम करना तथा लोगों के जीवन स्तर को सुधारने के लिए अनुदान प्रदान करना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.