BiologyBiologyBiologyBiologyBiology

लीवर की संरचना एवं कार्य (FUNCTIONS AND STRUCYURE OF LIVER)

Table Of Contents Hide
1 लीवर की संरचना एवं कार्य (FUNCTIONS AND STRUCYURE OF LIVER)

लीवर की संरचना एवं कार्य  (FUNCTIONS AND STRUCYURE OF LIVER)

लीवर शब्द की उत्पत्ति ग्रीक भाषा के “Heaper” नामक शब्द से हुई है जिसके कारण लीवर से सम्बन्धित विषयों को “Hepatic” कहा जाता है । लीवर शरीर का अति महत्वपूर्ण अंग है जो कि विषाक्त पदार्थों से शरीर की रक्षा करता है । प्रत्येक वर्ष 28 जुलाई को “हिपेटाइटिस दिवस” के रूप में मनाया जाता है। लीवर का हिन्दी नाम यकृत है । लीवर को यकृत, जिगर, कलेजा भी कहा जाता है।

यकृत (लीवर) मानव शरीर की सबसे बड़ी ग्रन्थि है जिसका रंग रक्ताभ धूसर होता है। मानव शरीर में लीवर पेट के दाहिने ऊपरी भाग में डायफ्राम के नीचे स्थित होता है।

पुरुषों के लीवर (यकृत) का भार 1400 से 1600 ग्राम यानी 1.4 किलोग्राम से 1.6 किलोग्राम तक होता है। महिलाओं के लीवर (यकृत) का भार 1200 से 1400 ग्राम यानी 1.2 किलोग्राम से 1.4 तक किलोग्राम होता है। इस प्रकार एक वयस्क व्यक्ति में लीवर का वजन 1.3 किलोग्राम से 1.6 किलोग्राम तक होता है।

स्वस्थ व्यक्ति में लीवर का भार शरीर के भार का लगभग 1/50 भाग होता है तथा बच्चों में शरीर के भार का लगभग 1/20 भाग होता है।

मनुष्य का लीवर मुख्यतः 02 प्रकार की कोशिकाओं– (1) यकृतीय कोशिका तथा (2) कुफर कोशिकाओं से बना होता है। यकृतीय कोशिकाएं यकृत की उत्सर्जी कोशिकाएं हैं। कुफर कोशिकाएं उस विशिष्ट के अन्तर्गत आती हैं जिसे रेटिक्यूला–एण्डोथिलीयल तन्त्र कहा जाता है।

मानव यकृत कई छोटे-छोटे खण्डों से मिलकर बना होता है। प्रत्येक खण्ड कें यकृतीय कोशिकाएं होती है जिनके बीच में नन्ही-नन्ही पित्तीय कोशिकाएं होती हैं जो कि एक साथ मिलकर बड़ी वाहिकाएं बनाती हैं। इन वाहिकाओं को “कामन हिपैटिक डक्ट” कहते हैं।

“कामन हिपैटिक डक्ट” वाहिका पित्ताशय से आने वाली सिस्टिक वाहिका से मिलकर उभय पित्त वाहिका का निर्माण करती है। पित्त वाहिका ड्यूओडीनम मे खुलती है। ड्यूओडीनम पित्ताशय संचय करती है।

लीवर (यकृत) के क्या कार्य हैं?

  1. कार्वोहिड्रेट, प्रोटीन तथा पित्त का चयापचय करता है।
  2. प्रोथ्राम्बिन का निर्माण एवं संचय करता है।
  3. शरीर के विषाक्त पदार्थों के बाहर निकालता है।
  4. पित्त का निर्माण करता है।
  5. विटामिन बी12 को संचित करता है।
  6. रक्त में शर्करा को नियन्त्रित करने में सहयोग करता है।
  7. ग्लूकोज को ऊर्जा में बदलता है।
  8. Antibody एवं Antigen का कार्य करता है।

लीवर को स्वस्थ रखने के लिए क्या-क्या खाना-पीना चाहिए?

  1. पालक तथा चुकन्दर के जूस में एक चुटकी मिर्च पाउचर मिला कर पीने से लीवर स्वस्थ होता है।
  2. लौकी, हल्दी, धनिया, गिलोय के मिक्स जूस में काला नमक मिलाकर पीने से लीवर की सम्पूर्ण गन्दगी तथा विषैले पदार्थ बाहर निकल जाते हैं तथा लीवर स्वस्थ होता है।
  3. फाइबर एवं एण्टीआक्सीडेण्ट युक्त फल व पत्तेदार सब्जियों ( जैसे- सेब, अमरूद, पपीता, टमाटर, गाजर, अंगूर, धनिया, चुकन्दर, अखरोट, सोया, मेथी, लहसुन, पालक, लौकी, हल्दी, पत्ता गोभी आदि ) का सेवन लीवर को मजबूत करता है।
  4. दिन में कम से कम एक बार नीबू की चाय या नीबू पानी का सेवन किया जाय । इससे विषाक्त पदार्थ लीवर से बाहर निकल जाते हैं।
  5. ग्रीन टी का सेवन किया जाय । यह एण्टीआक्सीडेण्ट युक्त होने के कारण लीवर में वसा का जमाव नही होने देता ।
  6. पर्याप्त नींद ली जाय तथा शुध्द जल का सेवन किया जाय।
  7. शराब, सिगरेट एवं तले भोज्य पदार्थों से बचें।
  8. भोजन में रेशेयुक्त भोज्य पदार्थ जैसे- जौ, ज्वार, बाजरा आदि का प्रतिदन सेवन किया जाय।
  9. ओलिव आयल का सेवन किया जाय तथा प्रतिदन कम से कम आधा घण्टे नियमित व्यायाम / प्राणायाम (कपालभाती, मत्स्येंद्रासन आदि) किया जाय।

लीवर में होने वाली बीमारियां कौन-कौन सी हैं?

लीवर में होने वाली बीमारियां निम्नलिखित हैंः

  1. हेमोक्रोमैटोसिस
  2. सिरोसिस
  3. फैटी लीवर
  4. हिपेटाइटिस ए
  5. हिपेटाइटिस बी
  6. हिपेटाइटिस सी
  7. अल्कोहलिक हिपेटाइटिस
  8. रक्तवर्णकता
  9. लीवर कैंसर, पीलिया ।

लीवर रोगी का आहार में क्या-क्या लेना चाहिए?

सुबह नास्ता (ब्रेकफास्ट)  में एक कटोरी गेहूं का दलिया एवं उबली सब्जियां, दोपहर (लंच) में मोटे अनाज (जैसे- जौ, मक्का आदि) की दो से तीन रोटियां, दो कटोरी सब्जी, 100 ग्राम पका पपीता एवं एक गिलास छाछ तथा रात (डिनर) में मोटे अनाज (जैसे- जौ, मक्का आदि) की एक से दो रोटी, एक कटोरी सब्जियों का सूप एवं एक कटोरी गेहूं का दलिया सेवन करना चाहिए।

लीवर की बीमारी से पूर्व मिलने वाले संकेत

  1. लीवर के ऊपरी भाग में लगातार धीरे-धीरे दर्द होता रहता है।
  2. हाथ-पैर में सूजन आ जाती है।
  3. नाखून तथा आंखों में पीलापन आ जाता है।
  4. हमेशा शरीर थका हुआ सा रहता है तथा हल्की हरारत भी लगती है।
  5. अचानक किसी स्थान पर खुजली होने लगती है परन्तु त्वचा सामान्य दिखायी देती है।
  6. शरीर पर बार-बार नील निशान पड़ने लगते हैं जिनसे आसानी से खून निकल जाता है।
  7. बिना किसी ठोस कारण के अचानक शरीर का वजन बढने लगता है।

 ∙ लीवर कौन सा तरल पदार्थ निर्मित करता है?

पित्त (Bile)।

लीवर को अन्य किन-किन नामों से जाना जाता है?

यकृत, जिगर, कलेजा।

.  लीवर शब्द की उत्पत्ति किस शब्द से हुई है?

लीवर शब्द की उत्पत्ति ग्रीक भाषा के “Heaper” नामक शब्द से हुई है।

.  लीवर से सम्बन्धित विषयों को क्या कहा जाता है?

लीवर से सम्बन्धित विषयों को “Hepatic” कहा जाता है।

.  विषाक्त पदार्थों से शरीर की रक्षा कौन करता है?

विषाक्त पदार्थों से शरीर की रक्षा  लीवर करता है।

.  हिपेटाइटिस दिवस कब मनाया जाता है?

28 जुलाई को “हिपेटाइटिस दिवस” के रूप में मनाया जाता है।

.  मानव शरीर की सबसे बड़ी ग्रन्थि कौन है?

यकृत (लीवर) मानव शरीर की सबसे बड़ी ग्रन्थि है जिसका रंग रक्ताभ धूसर होता है। मानव शरीर में लीवर पेट के दाहिने ऊपरी भाग में डायफ्राम के नीचे स्थित होता है।

. एक वयस्क व्यक्ति में लीवर का वजन कितना होता है?

1.3 किलोग्राम से 1.6 किलोग्राम तक होता है। एक वयस्क व्यक्ति में लीवर का वजन स्वस्थ व्यक्ति में लीवर का भार शरीर के भार का लगभग 1/50 भाग होता है तथा बच्चों में शरीर के भार का लगभग 1/20 भाग होता है।

Related Articles

Back to top button
The Knowledge Gateway Would you like to receive notifications on latest updates? No Yes

AdBlock Detected

Please Consider Supporting Us By Disabling Your AD Blocker