लेन्स (LENS)

0
77
LENS

लेन्स (LENS)

 लेन्स क्या है ? (What is Lens?)

दो गोलीय पृष्ठों से घिरे हुए किसी अपवर्तक माध्यम को लेन्स ( Lens) कहते हैं। लेन्स कांच  का बना होता है।

कांच का अपवर्तनांक 1.5,  पानी का अपवर्तनांक 1.33 तथा कार्बन डाई सल्फाइड का अपवर्तनांक 1.68 होता है।

लेन्स कितने प्रकार के होते हैं? (What are the types of lences?)

लेन्स (Lens) दो प्रकार के होते हैं- उत्तल लेन्स (Convex Lens) तथा अवतल लेन्स (Concave Lens)।

वह लेन्स जिसकी दोनों सतह मध्य में उभरी होती है, उत्तल लेंस (Convex Lens) कहलाता है। उत्तल लेन्स (Convex Lens) की क्षमता धनात्मक होती है।

वह लेन्स जिसकी दोनों सतह मध्य में चिपकी होती है, अवतल लेन्स (Concave Lens) कहलाता है। अवतल लेन्स (Concave Lens) की क्षमता ऋणात्मक होती है।

लेन्स से सम्बन्धित पारिभाषिक शब्द (Linguistic Terminology)  

प्रकाश केन्द्र,  मुख्य अक्ष तथा फोकस।

प्रकाश केन्द्र (Optical Centre)

लेन्स के भीतर स्थित वह बिन्दु जिससे होकर गुजरने पर प्रकाश किरण का विचलन नहीं होता, प्रकाश केन्द्र (Optical Centre) कहलाता है।

मुख्य अक्ष (Principal Axis)

लेन्स के दोनों पृष्ठों के वक्रता केन्द्र को मिलाने वाली रेखा को लेन्स का मुख्य अक्ष (Principal Axis) कहा जाता है।

फोकस (Focus)

मुख्य अक्ष के समानान्तर आने वाली किरणें लेन्स के अपवर्तन के बाद जिस बिन्दु पर मिलती है या मिलती हुई प्रतीत होती है उसे लेन्स का फोकस (Focus) कहते हैं।

लेन्स की क्षमता (Power of Lens)

किसी लेन्स की फोकस दूरी का व्युत्क्रम लेन्स की क्षमता (Power of Lens) कहलाता है। लेन्स की क्षमता (Power of Lens) का मात्रक डायोप्टर है जिसे P  प्रदर्शित करते हैं। 1 मीटर फोकस दूरी वाले लेन्स की क्षमता 1 डायोप्टर होती है।

P  =  1 / f    ( जहां P = डायोप्टर,  f = फोकस दूरी )

उत्तल लेन्स (Convex Lens) से किस प्रकार के प्रतिबिम्ब बनते हैं?

उत्तल लेन्स (Convex Lens)  से बने प्रतिबिम्ब की प्रकृति, आकार, स्थिति आदि प्रतिबिम्ब की फोकस से दूरी पर निर्भर करता है।

अवतल लेन्स (Concave Lens) किस प्रकार के प्रतिबिम्ब बनते हैं?

अवतल लेन्स (Concave Lens) से प्रतिबिम्ब हमेशा वस्तु की ओर से ही लेन्स और फोकस के बीच बनता है तथा प्रतिबिम्ब आभासी, सीधा एवं  वस्तु से छोटा होता है।

संयुक्त लेन्स क्या है?

दो लेन्सों को एक दूसरे से सटाकर रखने से बने लेन्स को संयुक्त लेन्स कहा जाता है। संयुक्त लेन्स की क्षमता दोनों लेन्सों की क्षमताओं के योग के बराबर होती है जिसे P  प्रदर्शित करते हैं।

P   = P1 +  P2    ( जहां  P = संयुक्त लेन्स की क्षमता,  P1 = पहले लेन्स की क्षमता,  P2 = दूसरे लेन्स की क्षमता )

लेन्स की क्षमता तथा फोकस दूरी में परिवर्तन कैसे होता है?

लेन्स की क्षमता तथा फोकस दूरी में परिवर्तन निम्न प्रकार होता हैः

  1. यदि लेन्स को समान अपवर्तनांक के माध्यम में डुबोया जाता है तो लेन्स की क्षमता शून्य हो जाती है तथा फोकस दूरी अनन्त हो जाती है।
  2. यदि लेन्स को किसी ऐसे माध्यम में डुबोया जाए जिसका अपवर्तनांक लेन्स के अपवर्तनांक से अधिक है तो लेन्स की क्षमता कम हो जाती है तथा फोकस दूरी बढ़ जाती है तथा प्रकृति बदल जाती है। जैसे- कांच से बने लेन्स को पानी में डूबोने पर।
  3. यदि लेन्स को किसी ऐसे माध्यम में डुबोया जाए जिसका अपवर्तनांक लेन्स के अपवर्तनांक से कम है तो लेन्स की क्षमता कम हो जाती है तथा फोकस दूरी बढ़ जाती है परन्तु उसकी प्रकृति में कोई परिवर्तन नहीं होता । जैसे- कांच से बने लेन्स को कार्बन डाई सल्फाइड में डुबोने पर ।

. लेन्स किसका बना होता है?

लेन्स कांच  का बना होता है।

. कांच, पानी तथा कार्बन डाई सल्फाइड का अपवर्तनांक कितना होता है?

कांच का अपवर्तनांक 1.5,  पानी का अपवर्तनांक 1.33 तथा कार्बन डाई सल्फाइड का अपवर्तनांक 1.68 होता है।

. लेन्स कितने प्रकार के होते हैं?

लेन्स दो प्रकार के होते हैः उत्तल लेन्स तथा अवतल लेन्स।

. एक लेन्स की दोनों सतह मध्य में उभरी है कौन सा लेन्स है?

उत्तल लेंस (Convex Lens)।

. उत्तल लेन्स (Convex Lens) की क्षमता कैसी होती है?

धनात्मक।

. एक लेन्स जिसकी दोनों सतह मध्य में चिपकी है, कौन सा लेन्स है?

अवतल लेन्स (Concave Lens)।

. अवतल लेन्स (Concave Lens) की क्षमता कैसी होती है?

ऋणात्मक।

. लेन्स की क्षमता (Power of Lens) का मात्रक क्या है?

डायोप्टर।

. एक लेन्स की क्षमता 1/7 है तो उक्त लेन्स की फोकस दूरी बताओ?

लेन्स की फोकस दूरी 7 है।

. एक लेन्स की फोकस दूरी 5 है तो उक्त लेन्स की क्षमता बताओ?

लेन्स की क्षमता 1/5 है।

. लेन्स की क्षमता को किससे प्रदर्शित करते हैं?

f से प्रदर्शित करते हैं।

लेन्स की क्षमता तथा फोकस दूरी के मध्य क्या सम्बन्ध है-

P  =  1 / f    ( जहां P = डायोप्टर,  f = फोकस दूरी )

लेन्स की क्षमता तथा फोकस दूरी दोनो एक दूसरे के व्युत्क्रमानुपाती होते हैं।

. यदि लेन्स को समान अपवर्तनांक के माध्यम में डुबोया जाता है तो उसकी क्षमता तथा फोकस दूरी पर क्या प्रभाव पड़ता है?

लेन्स की क्षमता शून्य हो जाती है तथा फोकस दूरी अनन्त हो जाती है।

. यदि लेन्स को किसी ऐसे माध्यम में डुबोया जाए जिसका अपवर्तनांक लेन्स के अपवर्तनांक से अधिक है तो लेन्स की क्षमता तथा फोकस दूरी पर क्या प्रभाव पड़ता है?

लेन्स की क्षमता कम हो जाती है तथा फोकस दूरी बढ़ जाती है तथा प्रकृति बदल जाती है। जैसे- कांच से बने लेन्स को पानी में डुबोने पर लेन्स की क्षमता कम हो जाती है तथा फोकस दूरी बढ़ जाती है तथा प्रकृति बदल जाती है।

. यदि लेन्स को किसी ऐसे माध्यम में डुबोया जाए जिसका अपवर्तनांक लेन्स के अपवर्तनांक से कम है तो लेन्स की क्षमता तथा फोकस दूरी पर क्या प्रभाव पड़ता है?

लेन्स की क्षमता कम हो जाती है तथा फोकस दूरी बढ़ जाती है परन्तु उसकी प्रकृति में कोई परिवर्तन नहीं होता। जैसे- कांच से बने लेन्स को कार्बन डाई सल्फाइड में डुबोने पर लेन्स की क्षमता कम हो जाती है तथा फोकस दूरी बढ़ जाती है परन्तु उसकी प्रकृति में कोई परिवर्तन नहीं होता।